देश में कोरोना बेकाबू हो गया है. बीते एक हफ्ते से देश में रोजाना 3 लाख से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं. कोरोना के कहर को कम करने के लिए देश के कई राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) जैसी सख्त पाबंदियां लागू हैं फिर भी मामलों में कमी नहीं आ रही. देश में कोरोना से जान गंवाने वालों लोगों की संख्या बढ़कर भी 2 लाख के पार पहुंच गई है. देश की राजधानी दिल्ली का भी हाल बुरा है. हर दिन ऑक्सीजन और बेड की किल्लत सामने आ रही है. ऐसे में भारतीय सेना ने दिल्ली स्थिति अपने बेस अस्पताल को कोविड अस्पताल में बदल दिया है. आर्मी के बेस अस्पताल में अभी कोविड मरीजों के लिए 340 बेड हैं, जिसमें 250 बेड में ऑक्सीजन की उपलब्धता है.Also Read - Tour of Duty: 'टूर ऑफ ड्यूटी' के जरिए युवाओं को मिलेगा देशसेवा का मौका, सेना में हो सकेंगे भर्ती

सेना ने बयान में कहा, ‘कोरोना के मामलों में लगातार हो रही तेजी के कारण इस अतिरिक्त बेड को लगाने का फैसला किया गया है. सेना की तरफ से बताया गया कि बेड बढ़ाने की योजना को तेजी से लागू करना है. 30 अप्रैल तक कोरोना मरीजों के लिए 650 बेड होंगे, जिसमें 450 बेड ऑक्सीजन सपोर्टेड रहेंगे. इसके अलावा 29 अप्रैल तक आईसीयू बेड की क्षमता भी 12 से 29 की जा रही है. Also Read - सड़क से फिसल कर खाई में गिर भारतीय सेना का वाहन, 7 की मौत । watch Video

Also Read - 1971 के शहीदों के प्रतीक राइफल और हेलमेट को इंडिया गेट से हटाया गया, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में स्थापित

इसके अलावा सेना ने यह भी दावा किया है कि जून के दूसरे हफ्ते तक इसमें 900 और ऑक्सीजन युक्त बेड जुड़ जाएंगे. इसके अलावा मरीजों के प्रबंधन के लिए, स्पेशलिस्ट मेडिकल टीम के तहत एक नया कोविड OPD हर समय काम कर रहा है.

इसके अलावा, भारतीय सेना ने किसी भी चिकित्सीय सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं. सेना की तरफ से जारी इन नंबरों पर (011-25683580; 011-25683585; 011-25683581; 37176) कोविद-19 से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी ले सकते हैं.

उधर, उधर, स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,60,960 नए मामले सामने औए और इस दौरान 3293 लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही देश में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,79,97,267 पहुंच गया है और अब तक 2,01,187 लोग इस जानलेवा वायरस के शिकार हो चुके हैं. भारत में कोरोना के अभी 29,78,709 एक्टिव मरीज हैं और 1,48,17,371 मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं.