नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ निर्णायक लड़ाई 16 जनवरी को ही शुरू हो चुकी है. कोरोना वायरस के खिलाफ भारत में दो वैक्सीनों के इस्तेमाल शुरू हो चुके हैं. इस बीच दुनिया के कई देश भारत सरकार से तुरंत वैक्सीन की सप्लाई की सिफारिश कर रहे हैं. भारत इस संकट की घड़ी में भी अपने पड़ोसी देशों की मदद से पीछे नहीं हटना वाला. क्योंकि भारत अपने पड़ोसी देशों भूटान, अफगानिस्तान, नेपाल, श्रीलंका, मालदीव, मॉरीशस और बांग्लादेश को 1 करोड़ वैक्सीन की खुराक दान कर सकता है.Also Read - HD Devegowda Corona Positive: पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा हुए कोरोना संक्रमित, फिलहाल नहीं दिख रहे हैं लक्षण

खबरों की मानें तो भारत अपने इन पड़ोसी देशों को 10 मिलियन यानी 1 करोड़ खुराक दान करने को लेकर विचार कर रहा है. बता दें कि ये वैक्सीन उन पड़ोसी देशों को दान करने पर विचार किया जा रहा है जिनसे भारत के संबंध बेहतर है. हालांकि पाकिस्तान को भी भारत में निर्मित वैक्सीन चाहिए लेकिन पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय स्तर के नए नए तरीके अपना रहा है. ताकि भारत को ना चाहते हुए भी पाकिस्तान को बिना मांगे वैक्सीन देना पड़े. Also Read - Assembly Polls 2022: कोरोना के मामलों के बीच क्या रैलियों, रोड शो पर लगी पाबंदियां बढ़ेंगी? चुनाव आयोग की अहम बैठक आज

भारत संकट की स्थिति में न केवल अपने पड़ोसियों की मदद करने वाला है, बल्कि मानवता धर्म को भी भारत द्वारा निभाया जा रहा है. साथ ही इससे भारत के अंतरराष्ट्रीय संबंध नई ऊंचाईयों पर पहुंच जाने वाले हैं. लाइव मिन्ट की खबर के मुताबिक भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग ने ऐलान किया है कि भारत सरकार उन्हें मुफ्त में वैक्सीन देगी. साथ ही बाग्लादेश को 20 जनवरी को 2 मिलियन डोज दिए जाएंगे. Also Read - Booster Dose: कोरोना के बूस्टर डोज को लेकर WHO की तरफ से आया यह बयान...