Independence Day 2018: भारत में हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस और 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है. देशभर में छोटे बच्चों से लेकर बड़ों तक देशभक्ति के रंग में रंगे नजर आते हैं. अंग्रेजों ने भारत पर 200 साल शासन किया. लेकिन एक वक्त ऐसा आया जब भारतीयों को यह समझ आने लगा कि उनका क्या खो गया है. Also Read - देश की आजादी के 75वें वर्ष को मनाने के लिए पीएम मोदी की अध्यक्षता में समिति गठित, सोनिया, ममता और मुलायम सिंह भी शामिल

Also Read - सोनिया का मोदी सरकार पर हमला, कहा- सरकार संवैधानिक मूल्यों और प्रजातांत्रिक व्यवस्था के विपरीत खड़ी है

यह भारत के क्रांतिकारीयों और स्वतंत्रता सेनानियों की ही देन है कि आज भारत आजाद है. आजादी की लड़ाई लड़ते हुए देश के शूरवीरों ने कई नारे दिए, जिन्होंने लोगों में आजादी पाने का जोश और भर दिया. ये नारे आज भी खून में उबाल पैदा कर देते हैं. देश के लिए मर-मिटने की चाहत पैदा कर देते हैं. Also Read - इस बार स्वतंत्रता दिवस पर नदारद रहीं चाइनीज पतंगें, हिंदुस्तानी पतंगों ने बिखेरा अपना रंग

हम आज आपके लिए स्वतंत्रता सेनानियों के कुछ ऐसे ही नारे लेकर आएं, जिन्हें सुनने के बाद आपका सीना और भी चौड़ा हो जाएगा.

Happy 72nd Independence day 2018: 15 अगस्त को ही क्यों मनाया जाता है स्वतंत्रता दिवस

1. “वंदे मातरम”- बंकिमचंद्र चटर्जी

2. “मेरे सिर पर लाठी का एक-एक प्रहार, अंग्रेजी शासन के ताबूत की कील साबित होगा” – लाला लाजपत राय

3. “अंग्रेजों भारत छोड़ो” – महात्मा गांधी

4. “तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा” – नेताजी सुभाष चंद्र बोस

5. “इंकलाब जिंदाबाद” – भगत सिंह

6. “जन-गण-मन अधिनायक जय हे” – रवींद्र नाथ टैगोर

7. “स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूंगा” – बाल गंगाधर तिलक

8. “दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे, आजाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे” – चंद्र शेखर आजाद

9. “सारे जहां से अच्‍छा हिन्‍दोस्‍तां हमारा” – अल्‍लामा इकबाल

10. “सरफरोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है” – रामप्रसाद बिस्मिल

Independence Day 15 August 2018: स्वतंत्रा दिवस के बारे में ये 10 बातें आपको जरूर मालूम होनी चाहिए

11. “जय हिंद” – सुभाष चंद्र बोस

12. “जय जवान, जय किसान” – लाल बहादुर शास्‍त्री

13. “आराम हराम है” – जवाहरलाल नेहरू

14. “सत्यमेव जयते” – पंडित मदनमोहन मालवीय

15. “करो या मरो” – महात्मा गांधी

एजुकेशन और करियर की अन्य खबरों को पढ़ने के लिए करियर न्यूज पर क्लिक करें.