वॉशिंगटन: भारत के 35 वर्षीय एक आईटी मैनेजर को अमेरिका में एक उड़ान के दौरान सो रही एक महिला के साथ यौन दुर्व्यवहार करने का दोषी पाया गया है. मीडिया में आयी खबरों के अनुसार यह घटना लास वेगास से डेट्राइट जा रही उड़ान में हुई. डेट्राइट न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार दो साल से एक आईटी कंपनी के लिए काम कर रहे प्रभु रामामूर्ति को 12 दिसंबर को अदालत द्वारा सजा सुनाई जाएगी.

इस मामले में रामामूर्ति को उम्र कैद हो सकती है. अगर राममूर्ति को छोड़ दिया गया तो उसे वापस भारत भेज दिया जाएगा. रिपोर्ट के अनुसार रामामूर्ति ने 22 वर्षीय महिला के साथ विमान में दुर्व्यवहार किए जाने की घटना के सात महीने बाद अदालत का फैसला आया है.

बता दें कि डेट्राइट न्यूज की जनवरी को प्रकाशित रिपोर्टों के मुताबिक, एक इंडियन युवा आई मैनेजर पर एक युवा महिला के यौन उत्पीड़न करने का आरोप है. लास वेगास से डेट्रोइट की उड़ान के दौरान सो गई थी.

22 साल की पीड़िता बुधवार स्पिरिट एयरलाइंस की उड़ान पर 34 वर्षीय प्रभु रामामूर्ति के बगल में एक खिड़की की सीट में बैठा थी
– पीड़िता जब सो गई तो ने छेड़छाड की तो वह जाग गई, और आदमी के हाथ उसके पैंट, वाशिंगटन पोस्ट की सूचना दी।
– रामामूर्ति अमेरिका में एक अस्थायी वीज़ा पर एक भारतीय नागरिक है
– पीड़ित ने दावा किया कि राममोर्थी ने अपनी अंगुलियां उसके जननांगों में फेर रहा था
– जब और “जोरदार ढंग से” उसने ऐसा किया तो अंततः जब वह जाग गई थी तो उसे रोका था
– महिला ने फ्लाइट अटेंडेंट के लिए परीक्षा की सूचना दी, और विमान के उतरने के बाद रामामूर्ति को को गिरफ्तार कर लिया गया
– बाद में आरोपी ने एफबीआई एजेंट से अपना अपराध कबूल लिया था
– हालांकि, रामामूर्ति ने कहा कि एक लिखित बयान दिया था कि वह गहरी नींद में था और महिला घुटनों पर सो गई थी
– उसने दावा किया कि उसे यकीन नहीं था जहां वह अपना हाथ रखे हुए था

(इनपुट- एजेंसी)