नई दिल्ली. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने मंगलवार को देश भर के निजी अस्पतालों में बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) सेवाओं की 12 घंटे की हड़ताल खत्म कर दी है. आईएमए ने यह कदम उनकी मांग पर सरकार द्वारा राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग विधेयक 2017 को प्रवर समिति को भेजने पर सहमति जताने के बाद उठाया है.Also Read - Omicron कितना घातक, जानें Corona के इस वेरिएंट के बारे में अलर्ट करने वाली डॉक्टर की इस पर क्या है राय

Also Read - Top 5 Highest Paying jobs in India: देश में इन 5 नौकरियों में मिलती है दमदार सैलरी, जानें क्या चाहिए योग्यता

आईएमए के पूर्व अध्यक्ष के.के.अग्रवाल ने आईएएनएस से कहा, अभी-अभी हमें सूचना मिली है कि सरकार ने हमारी मांगों से सहमति जताते हुए विधेयक को प्रवर समिति के पास भेजा है. इसके बाद हमने अपनी 12 घंटे की हड़ताल समाप्त कर दी है. आईएमए ने मंगलवार को जन विरोधी व मरीज विरोधी राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) विधेयक, 2017 के विरोध में देश भर के निजी अस्पतालों में 12 घंटे के बंद का आह्वान किया था. Also Read - NEET Exam Toppers: पहले इंजीनियर बनना चाहते थे मृणाल, तीनों टॉपर से जानें कैसे की तैयारी

राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग विधेयक 2017 को स्थायी समिति को भेजा

राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग विधेयक 2017 को स्थायी समिति को भेजा

एनएमसी विधेयक भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) की जगह लेगा. आईएमए के 2.77 लाख सदस्य हैं, जिसमें देश भर के कॉरपोरेट अस्पताल, पॉली क्लिनिक, नर्सिग होम शामिल हैं. आईएमए के ओपीडी के 12 घंटे के बंद के आह्वान का देश के तमाम राज्यों के निजी अस्पतालों में काफी असर दिखा लेकिन राष्ट्रीय राजधानी में इस पर मिलीजुली प्रतिक्रिया देखी गई. अपोलो, बीएलके सुपर स्पेशियलिटी व सर गंगा राम व दर्जनों दूसरे अस्पतालों सहित कई बड़े कॉरपोरेट अस्पतालों ने अपना कामकाज जारी रखा.