नई दिल्लीः दक्षिण पश्चिम मानसून भारत में आ चुका है. रविवार को मानसून ने भारत के केरल राज्य में दस्तक दी. मानसून के चलते सोमवार सुबह राज्य में भारी बारिश हुई. भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) मानसून को देखते हुए दक्षिण भारत के कुल नौ जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है. इन नौ जिलों में तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पठानमथिट्टा, अलाप्पुझा, कोट्टायम, एर्नाकुलम, इडुक्की, मलप्पुरम और कन्नूर शामिल हैं. मौसम विभाग के चेतावनी के अनुसार इन शहरों दिन के तापमान में गिरावट के साथ बारिश हो सकती है. Also Read - नेपाल में बारिश से भारी तबाही, कई घर बहे, 10 की मौत, 40 से ज्‍यादा लापता

आपको बता दें कि मौसम के बदलने के अनुरूप विभाग समय समय पर अलर्ट जारी करता है. मौसम विभाग की तरफ से रेड अलर्ट, येलो अलर्ट या फिर ऑरेन्ज अलर्ट जारी किया जाता है. यलो अर्लट लोगों को सचेत करने के उद्देश्य से विभाग कि तरफ से जारी किया जाता है. मौसम विभाग के अनुसार येलो अलर्ट एक तरह से जस्ट वॉच का एक सिग्नल है. Also Read - गुजरात में बाढ़ के संकट के बीच कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, नदी में बहते दिखे जानवर

मानसून का असर उत्तर भारत में दिखने को मिल रहा है. दिल्ली सहित उत्तर भारत के अनेक राज्यों में रविवार को हल्की से मध्यम बारिश हुई जिससे क्षेत्र में लू से एक सप्ताह राहत मिलने के आसार हैं. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि अरब सागर के ऊपर बना कम दबाव क्षेत्र चक्रवाती तूफान में तब्दील होकर ऊपरी पश्चिमी तट की ओर बढ़ सकता है.

दिल्ली में रातभर हल्की बारिश और दिन में भी बारिश होने से अधिकतम तापमान 36 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विज्ञानी ने अगले दो दिन में दिन का तापमान 40 डिग्री से नीचे रहने का अनुमान व्यक्त किया है. दिल्ली-एनसीआर के कई निवासियों ने आसमान में इंद्रधनुष देखा और खेल प्रेमियों ने बारिश के बाद वॉलीबॉल खेला. हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में भी वर्षा हुई.

भारत मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि एक जून से तीन जून के बीच दिल्ली-एनसीआर में तापमान 2-4 डिग्री बढ़ने की संभावना है. श्रीवास्तव ने कहा कि जून के पहले सप्ताह में उत्तर पश्चिम भारत में एक और पश्चिमी विक्षोभ की आशंका है, आठ जून से पहले इस क्षेत्र लू चलने की संभावना नहीं है.

पिछले हफ्ते उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में लू चलनी शुरू हो गई थी. ताजा पश्चिमी विक्षोभ और दक्षिण-पश्चिमी हवाओं तथा अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने से दिल्ली- एनसीआर में और नमी सकती है. आईएमडी ने कहा कि तीन जून तक उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में जाने से पहले कम दबाव का क्षेत्र एक चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है.