नई दिल्ली: चीन की सेना ने मंगलवार को आरोप लगाया कि गलवान घाटी क्षेत्र में भारतीय सैनिकों ने फिर से वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार किया और ‘‘जानबूझकर उकसाने वाले हमले किए’’ जिस कारण ‘‘गंभीर संघर्ष हुआ और सैनिक हताहत हुए.’’ चीन के इस बयान को खारिज करते हुए भारत ने कहा है कि चीन के एकतरफा प्रयास के चलते हिंसक झड़प हुई. भारत ने मंगलवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प क्षेत्र में ‘‘यथास्थिति को एकतरफा तरीके से बदलने के चीनी पक्ष के प्रयास’’ के कारण हुई Also Read - लद्दाखवासी कहते हैं चीन ने हमारी जमीन ली और प्रधानमंत्री कहते हैं नहीं, कोई तो झूठ बोल रहा है: राहुल

हालांकि भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि पूर्वी लद्दाख के सीमावर्ती क्षेत्र में तनाव कम करने के लिए भारत और चीन राजनयिक और सैन्य स्तर पर चर्चा कर रहे हैं. मंत्रालय ने कहा, “15 जून की देर शाम और रात को यथास्थिति में परिवर्तन करने के चीन की ओर से किए गए एकतरफा प्रयास के चलते हिंसक झड़प हुई.” विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में आगे कहा कि यदि उच्च स्तर पर चीन द्वारा सतर्कतापूर्ण रवैया अपनाया गया होता तो दोनों पक्षों की ओर हताहत नहीं होते. Also Read - इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतें या तो हार गईं या वापस लौटने के लिए मजबूर हुईं हैं: PM मोदी

विदेश मंत्रालय ने कहा, “भारत इस बारे में एकदम स्पष्ट है कि उसकी सभी गतिविधियां हमेशा वास्तविक नियंत्रण रेखा के भारतीय क्षेत्र में रही हैं, हम चीन से भी ऐसी ही उम्मीद रखते हैं. हम सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बरकरार रखने और मतभेदों का समाधान बातचीत के जरिये करने के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध हैं.” विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘हमारा अटूट विश्वास है कि सीमाई इलाके में शांति बनाए रखने की जरूरत है और वार्ता के जरिए मतभेद दूर होने चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसके साथ ही हम भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं. ’’ Also Read - राष्‍ट्रपति शी के नेतृत्व में चीन ने भारत के प्रति आक्रामक विदेश नीति अपनाई है: US आयोग की रिपोर्ट

इससे पहले चीन के सरकारी ग्लोबल टाइम्स ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के पश्चिमी थियेटर कमान के प्रवक्ता के हवाले से कहा कि ‘‘भारतीय सैनिकों ने एक बार फिर गलवान घाटी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार किया और जानबूझकर उकसाने वाले हमले किए, जिससे गंभीर संघर्ष हुआ और सैनिक हताहत हुए.’’ इसने विस्तृत ब्यौरा नहीं दिया है.

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ हिंसक संघर्ष में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए. पिछले 45 वर्षों में इस तरह की यह पहली घटना है और यह संवेदनशील क्षेत्र में पिछले पांच हफ्ते से चल रहे व्यापक तनाव का संकेत देती है. सेना ने कहा कि हिंसक संघर्ष के दौरान भारत के एक अधिकारी और दो सैनिक शहीद हो गए, जबकि चीनी पक्ष की तरफ भी सैनिक हताहत हुए हैं. चीन पक्ष के हताहतों के बारे में फिलहाल स्पष्टता नहीं है.

(इनपुट भाषा)