मुंबई. भारतीय नौसेना ने स्कॉर्पिन श्रेणी की तीसरी पनडुब्बी मुंबई में लॉन्च कर दी है. फ्रांस के सहयोग से मुंबई की मझगांव गोदी पर बनी स्कॉर्पीन क्लास की यह तीसरी पनडुब्बी है. इसका नाम आईएनएस करंज है. यह बेमिसाल पनडुब्बी नवीनतम स्टेल्थ टेक्निक से लैस है. इस तकनीक की मदद से यह दुश्मन के समुद्री इलाके में लंबे वक्त तक छिपी रह सकती है. 

इंडियन नेवी ने पहली बार सबमरीन से किया अंडर वाटर मिसाइल परीक्षण, पल भर में दुश्मन होगा तबाह

इंडियन नेवी ने पहली बार सबमरीन से किया अंडर वाटर मिसाइल परीक्षण, पल भर में दुश्मन होगा तबाह

Also Read - चीन से तकरार के बीच नौसेना को मिलने जा रहा ये सबसे खतरनाक युद्धपोत, कहीं भी छिपो... ढूंढ निकालेगा

Also Read - भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया, भारतीय नौसेना की ताकत में होगा और इजाफा

आईएनएस करंज के नेवी में दो साल बाद सक्रिय होने से पनडुब्बी क्षमता में जेनरेशनल चेंजेस नेवी ऑफिसर्स महसूस करेंगे. इन अत्याधुनिक पनडुब्बियों के देश में ही निर्माण की तकनीक हासिल करने के बाद मझगांव गोदी अब नेक्स्ट जेनरेशन की पनडुब्बियों के निर्माण का काम शुरू करने की उम्मीद कर रही है. Also Read - Sarkari Naukri 2020: Indian Navy Recruitment 2020: भारतीय नौसेना में निकली वैकेंसी, JEE Mains 2020 कैंडीडेट्स इस दिन से कर सकते हैं आवेदन

बता दें कि रक्षा मंत्रालय जल्द ही देश में ही अगली पीढ़ी की 6 और एडवांस पनडुब्बियों को बनाने के लिए टेंडर जारी करने वाला है. मालूम हो कि 1971 के भारत-पाक युद्ध में पाकिस्तानी पनडुब्बी पीएनएस गाजी को डुबोने के लिए भारतीय नेवी द्वारा की गई कार्रवाई में तब की आईएनएस करंज पनडुब्बी ने भी हिस्सा लिया था.

अब स्कार्पीन क्लास की तीसरी पनडुब्बी का नाम उसी करंज पनडुब्बी के नाम पर रखा गया है. पहली पनडुब्बी कलवरी को नेवी में पिछले साल 14 दिसंबर को कमीशन किया गया था. वहीं, दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंदेरी पिछले साल 12 जनवरी को लॉन्च की गई थी. उम्मीद है कि खंदेरी को इस साल के अंत तक नौसेना में कमीशन किया जा सकेगा.

मझगांव गोदी में कुल छह पनडुब्बियों की निर्माण योजना के तहत आईएनएस करंज तीसरी पनडुब्बी होगी.