नई दिल्ली: भारतीय नौसेना के कमोडोर ज्योतिन रैना (Indian Navy’s Commodore Jyotin Raina) को नौसेना पदक (वीरता) से सम्मानित किया गया है. उन्होंने यह सुनिश्चित किया था कि पिछले साल फरवरी में पुलवामा हमले के बाद बहुत कम समय सीमा के भीतर पश्चिमी बेड़ा अपने परिचालन कार्यों को पूरा कर सके. नौसेना ने रविवार को यह जानकारी दी. रैना वर्तमान में नौसेना के पश्चिमी बेड़े के फ्लीट ऑपरेशन ऑफिसर हैं. Also Read - आर्मी ने 52 किलो विस्फोटक बरामद करके कश्मीर में पुलवामा जैसा बड़ी आतंकी हमला टाला

नौसेना ने एक बयान में कहा, ‘‘पुलवामा हमलों के बाद अधिकारी ने उत्कृष्टता, मुस्तैदी, उच्च मानकों का व्यक्तिगत नेतृत्व कर यह सुनिश्चित किया कि समय सीमा के भीतर पश्चिमी बेड़े से सभी परिचालन कार्य पूरे हो सकें.” बयान के अनुसार अधिकारी ने सुनिश्चित किया कि बंदरगाह के पास दुश्मन पनडुब्बियों की मौजूदगी के बावजूद अपने जहाज सुरक्षित वापस आ जाएं. Also Read - Pulwama Attack: पुलवामा में CRPF के काफिले पर फिर से IED ब्लास्ट कर आतंकियों ने किया हमला, सर्च ऑपरेशन जारी

Republic Day: भारत ने गणतंत्र दिवस के मौके पर नेपाल को उपहारस्वरूप दीं एंबुलेंस Also Read - पुलवामा हमले के सिलसिले में एनआईए ने पिता-पुत्री को किया गिरफ्तार

वहीं दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस के 31 कर्मियों को उनकी सेवाओं के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 12 पुलिसकर्मियों को वीरता के लिए पुलिस पदक, विशिष्ट सेवा के लिए दो राष्ट्रपति पुलिस पदक और सराहनीय सेवा के लिए 17 पुलिस पदक प्रदान किए गए.

वीरता पदक पाने वालों में पुलिस उपायुक्त ओमवीर सिंह, डीसीपी(विशेष सेल) प्रमोद सिंह कुशवाह, सहायक पुलिस आयुक्त हेमंत तिवारी, निरीक्षक मनीष जोशी, निरीक्षक पूरन चंद्र यादव, निरीक्षक संजीव कुमार यादव, निरीक्षक उमेश बर्थवाल और निरीक्षक सुनील कुमार, निरीक्षक अमूल त्यागी, उपनिरीक्षक यशपाल सिंह, उपनिरीक्षक मुकेश सिंह और सहायक उपनिरीक्षक गुलाब सिंह शामिल हैं.