IRCTC Guidelines For 200 Trains: देश में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन जारी है. लॉकडाउन के चौथे चरण में कई तरह की छूटें देने के बाद अब सरकार ने लॉकडाउन 5 के नियमों को और भी शिथिल कर दिया है. जिसके तहत ना सिर्फ ट्रेन सुविधा शुरू की जा रही है, बल्कि अन्य कई सेवाएं भी बहाल हो रही हैं. ऐसे में अगर आप भी यात्रा करने जा रहे हैं तो बता दें कि रेलवे (Indian Railway) द्वारा कुछ दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, जिन्हें जान लेना आपके लिए बेहद जरूरी है. क्योंकि, इनकी जानकारी के आभाव में आपकी यात्रा भी प्रभावित हो सकती है. Also Read - नहीं जाएगी रेलवे कर्मचारियों की नौकरी, लेकिन काम बदल सकता है: भारतीय रेल

रेलवे(Railway) के नए दिशा-निर्देशों (New Guideline issued by Indian Railway) के अनुसार कोई भी यात्री बिना टिकट जांच के ट्रेन में नहीं चढ़ सकेगा और यात्री को ट्रेन के निकलने के समय से 90 मिनट पहले स्टेशन पहुंचना अनिवार्य होगा. ताकि, यात्रियों की भी स्क्रीनिंग की जा सके. आपको बता दें कि इस बार रेलवे ने एक बड़ा बदलाव कियाहै कि ट्रेन में उन्ही लोगों को चढ़ने दिया जाएगा जिनके पास कंफर्म टिकट (Confirmed ticket) होगा, मतलब 1 जून से चलने वाली ट्रेन में कोई भी पैसेंजर वेटिंग टिकट पर यात्रा नहीं कर सकेगा. ट्रेन में सफर करने वाले सभी यात्रियों को आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) का इस्तेमाल करना अनिवार्य होगा और रेलवे कर्मचारियों के फोन में भी आरोग्य सेतु ऐप होना जरूरी है. Also Read - IRCTC Latest News : जानें, कब से शुरू होने जा रही हैं प्राइवेट ट्रेन, फ्लाइट से कम किराए पर कर सकेंगे यात्रा

अब ट्रेन में टिकट की जांच करने वाले कर्मचारी (TTE) काले कोट और टाई में दिखाई नहीं देंगे. नए दिशा-निर्देशों के मुताबिक, इन कर्मचारियों को कोरोना से खुद को सुरक्षित रखने के लिए दस्ताने, फेस मास्क, साबुन रखना और फेस शील्ड पहनना होगा. कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए टाई की अनिवार्यता भी समाप्त की जा सकती है. लेकिन अपनी पहचान के लिए कर्मचारी अपने नाम और पद का बैच पहने रहेंगे. Also Read - IRCTC Tatkal Ticket Booking: आज से शुरू हुई ट्रेनों की तत्काल बुकिंग, जानें बुकिंग की टाइमिंग

यात्रियों और अपनी की सुरक्षा के लिए उन्हें यात्री से शारीरिक संपर्क से दूर रहना होगा. टिकट जांच के लिए कर्मचारियों को आतिशी शीशा दिया जाएगा. जिससे वह दूर से ही टिकट की जांच कर सकें. टिकट जांच करने वाले सभी कर्मचारियों की स्क्रीनिंग की जाएगी. अगर किसी कर्मचारी को सांस संबंधित परेशानी है तो उसे तत्काल विभाग को सूचित करने को कहा गया है.