नई दिल्ली. भारत में यातायात के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली भारतीय रेल ने रेल यात्रियों से 9 महीने के दौरान जुर्माने के रूप में लगभग 850 करोड़ रुपए वसूल किए हैं. मौजूदा वित्त वर्ष 2017-18 की पहली तीन तिमाही यानि अप्रैल 2017 से दिसंबर 2017 तक 9 महीने के दौरान रेलयात्रियों से टिकट संबंधी जुर्माने के रूप में 850 करोड़ रुपये वसूल किए गए हैं.

रेलराज्य मंत्री राजन गोहेन ने राज्यसभा में यह जानकारी दी. गोहेन ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में पिछले साल दिसंबर 2017 तक टिकट चैक करने के दौरान 1 करोड़ 83 लाख लोग बिना टिकट या बिना उपयुक्त टिकट के यात्रा करते पकड़े गए थे. इन लोगों से जुर्माने के तौर पर 850 करोड़ रुपए लिए गए. गोहेन ने बताया कि रेलगाड़ियों में अनधिकृत यात्रियों को पकड़ने के लिये अन्य उपाय भी किए गए हैं. अक्सर लोग भारतीय रेलवे को लेकर अपनी परेशानी जाहिर करते हैं लेकिन ऐसे लोगों की तादात भी बहुत बड़ी है जो अपनी जिम्मेदारी नहीं समझते.