Indian Railway Kisan Rail: कोरोना काल में परेशानी झेल रहे किसानों के लिए इंडियन रेलवे (Indian Railways) ने बड़ा तोहफा दिया है. भारतीय रेलवे ने दक्षिण भारत से दिल्ली के लिए दूसरी किसान रेलवे सेवा शुरू की है. भारतीय रेलवे ने ये फैसला किसानों की आमदनी बढ़ाने के इरादे से लिया है. ये भारत की दूसरी स्पेशल किसान रेल (Kisan Rail) आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के अनंतपुर (Anantapur) से नई दिल्ली (Delhi) के आदर्श नगर (Adarsh Nagar in Delhi) के लिए चलाई जाएगी. Also Read - डोकलाम से दलाई लामा तक की खुफि‍या जानकारी के लिए भारतीय पत्रकार को चीन से होता था भुगतान

Indian Railway Latest News Also Read - IRCTC/Indian Railways: 20 जोड़ी क्लोन ट्रेनों में कैसे होगी टिकटों की बुकिंग? सफर के लिए क्या हैं गाइडलाइंस- जानें सबकुछ

केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी (YS Jagan Mohan Reddy) ने बुधवार की सुबह इस ट्रेन का उद्घाटन किया. कोरोना के चलते वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ट्रेन को हरी झंडी दिखाई गई. केंद्र के इस ट्रेन को चलाने का मकसद 2022 तक किसानों की आय में दोगुनी वृद्धि की गई है. Also Read - Trains For Bihar/ IRCTC Booking : जाना है बिहार तो टिकट के लिए मत होइये परेशान! आज से इन क्लोन ट्रेनों में ऐसे करें टिकटों की बुकिंग

सरकार के मुताबिक, इस ट्रेन को चलाने से आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के टमाटर, अनार और सब्जियों की आपूर्ति दिल्ली-एनसीआर के इलाकों में हो सकेगी. ऐसे में जहां, किसानों को इन सब्जियों की बेहतर कीमत मिलेगी वहीं दिल्ली वासियों को भी आसानी से सब्जी भाजी मिल सकेगी. बता दें देश की पहली किसान रेल महाराष्ट्र के देवलाली (Devlali in Maharashtra) से बिहार के दानापुर (Danapur in Bihar) के बीच 7 अगस्त 2020 से शुरू की गई है.

आपको बता दें कि यह देश की दूसरी किसान रेल सेवा है जबकि दक्षिण भारत के लिए भारतीय रेलवे की तरफ से पहली बार किसान रेल सेवा शुरू की गई है. कोरोना कॉल में भारतीय रेलवे ने अपनी ताकत और क्षमता का विशेष प्रदर्शन किया है. जहां एक ओर कोरोना के डर से लोग घर में बैठे हुए थे वहीं रेलवे के कर्मचारी लगातार देश की सेवा में लगे हुए थे.

प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाना हो या फिर इस संकट के समय में सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना यहां तक की कोरोना की विषम परिस्थियों में भारतीय रेलवे ने अपने कोच को कोविड वार्ड के तौर पर भी परिवर्तित किया. भारतीय रेलवे हमेशा ही ऐसे कदम उठाता रहा है जिससे आम लोगों की जिंदगी आसान बन सके.