नई दिल्ली. रेलवे ने वंदे भारत एक्सप्रेस (ट्रेन 18) के प्रस्तावित किराए को घटाने की घोषणा की. किराये को तर्कसंगत बनाते हुए रेलवे ने दिल्ली-वाराणसी सफर के लिए वातानुकूलित कुर्सीयान का किराया 1850 रुपये की जगह 1760 रुपये, जबकि एक्जीक्यूटिव श्रेणी का किराया 3520 रूपये की जगह 3310 रूपये करने की घोषणा की है. नई दिल्ली से वाराणसी तक एक्जीक्यूटिव श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्रियों को सुबह की चाय, नाश्ते और भोजन के लिए 399 रुपये देने पड़ेंगे जबकि कुर्सीयान के यात्रियों को 344 रूपये लगेंगे.Also Read - Indian Railway Sarkari Naukri: रेलवे ने 500 से भी ज्यादा पदों पर भर्ती के लिए मांगे आवेदन, यहां पढ़िए डिटेल्स

Also Read - Railway Recruitment 2021: रेलवे में सरकारी नौकरी का फिर सुनहरा अवसर, जल्दी करें आवेदन

हालांकि, जल्द शुरू होने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस में टिकटों पर किसी तरह की रियायत नहीं मिलेगी जैसा कि दूसरी ट्रेनों में वरिष्ठ नागरिकों को मिलती है. उन्हें वयस्क की तरह टिकट का पूरा किराया देना होगा. रेलवे के एक आदेश में कहा गया है कि वापसी की यात्रा में कुर्सी यान के टिकट का किराया 1700 रुपये होगा और एक्जीक्यूटिव श्रेणी का किराया 3,260 रुपये पड़ेगा. दोनों किराए में कैटरिंग का फीस भी शामिल है. Also Read - Platform Ticket Price Reduce in Mumbai: मुंबई में लोगों को बड़ी राहत, Railway ने प्लेटफॉर्म टिकट की बढ़ी कीमतें वापस लीं

Happy Kiss Day 2019: गर्लफ्रेंड-ब्‍वॉयफ्रेंड के लिए परफेक्‍ट Kiss Day Messages, I Love You संग कहें दिल की बात…

पीएम दिखाएंगे हरी झंडी

पीएम नरेंद्र मोदी 15 फरवरी को दिल्ली से ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे. यात्री 17 फरवरी से ट्रेन में सफर कर पाएंगे. यह ट्रेन सुबह छह बजे दिल्ली से रवाना होगी और दोपहर दो बजे वाराणसी पहुंचेगी. वापसी में यह ट्रेन दोपहर तीन बजे रवाना होगी और रात में 11 बजे दिल्ली पहुंचेगी. आदेश में कहा गया है कि सोमवार और गुरुवार को छोड़कर ट्रेन सप्ताह में हर दिन चलेगी.

शताब्दी से ज्यादा है दाम

सूत्रों ने बताया कि शताब्दी एक्सप्रेस की तुलना में खासकर कुर्सीयान के टिकट का किराया ज्यादा होने के कारण रेलवे ने किराया घटाने का फैसला किया है. अभी चेयर कार का किराया उतनी ही दूरी तय करने वाली शताब्दी ट्रेनों के किराए से 1.4 गुणा अधिक है और एक्जीक्यूटिव क्लास का किराया प्रीमियम ट्रेन में वातानुकूलित प्रथम श्रेणी के किराये से 1.3 गुणा अधिक है.