नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी के बीच भारतीय रेलवे ने एक खास प्रयोग शुरू किया है. रेलवे ने उत्तर प्रदेश के प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर एयरपोर्ट जैसी बोर्डिंग पास की सुविधा शुरू की है. दरअसल कोरोना वायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए रेलवे कई तरह के कदम उठा रही है. हाल ही में, प्रयागराज जंक्शन रेलवे स्टेशन पर एक ऑटोमैटिक क्यूआर कोड-बेस्ड टिकट स्कैनिंग सिस्टम लागू किया गया है. उत्तर मध्य रेलवे जोन द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, रेलवे के लिए यह अपनी तरह की पहली पहल है जिसमें, स्टेशन पर एक “एयरपोर्ट जैसी” बोर्डिंग सुविधा शुरू की गई है. Also Read - वैज्ञानिकों ने खोजा कोरोना से जुड़ी गंभीर बीमारियों से बच्चों को बचाने का रहस्य, जानिए क्या है इनका दावा  

प्रयागराज जंक्शन पहुंचने वाले यात्रियों को स्टेशन के बोर्डिंग हॉल में ले जाया जाता है, यहां चार नए संपर्क रहित काउंटर स्थापित किए गए हैं. कोरोनो वायरस संकट के कारण यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ये काउंटर पूरी तरह से संपर्क रहित हैं. Also Read - कोरोना महामारी के बीच फिल्म निर्माता बना रहे हैं ये प्लान, तापसी पन्नू की आगामी फिल्म से हो सकती है शुरुआत

फिर इन काउंटर पर टिकट चेकिंग स्टाफ द्वारा पीएनआर/ क्यूआर कोड के माध्यम से टिकट की जांच की जाएगी. काउंटर पर यात्री कैमरे के माध्यम से अपनी आईडी और टिकट दिखाना होगा. जो ड्यूल डिस्प्ले द्वारा यात्री एवं टिकट चेकिंग स्टाफ दोनों को दिखाई देगा. Also Read - अमेरिका में नए वीजा नियम से लाखों भारतीय छात्र परेशान, क्या नरमी बरतेगा ट्रंप प्रशासन?

वेब कैमरा टिकट चेकिंग स्टाफ के साथ उपलब्ध कंप्यूटर से जुड़ा है. टिकट चेकिंग स्टाफ यात्रियों के पीएनआर की जाँच या तो वेबकेम के माध्यम से या क्यूआर कोड स्कैनिंग सिस्टम के माध्यम से करता है. काउंटरों के दोनों ओर, यात्री और टिकट चेकिंग स्टाफ के बीच बातचीत के लिए माइक्रोफोन और स्पीकर लगाए गए हैं.

टिकट चेकिंग और यात्री की पहचान कन्फर्म होने के बाद, एक बोर्डिंग पास यात्री की ओर लगे प्रिंटर के माध्यम से प्रिंट होता है, जिसमें आवश्यक विवरण जैसे नाम, पीएनआर नंबर, कोच नंबर और बर्थ नंबर लिखा होता है. बोर्डिंग पास प्राप्त करने के बाद, यात्री रेलवे स्टेशन परिसर के साथ-साथ ट्रेन के अंदर भी प्रवेश कर सकता है, हालांकि, उसे टिकट और पहचान पत्र साथ रखना चाहिए. इसके अलावा यात्री के ऑन-बोर्ड करते समय टिकट चेकिंग स्टाफ को उसके बारे में पहले से पता होता क्योंकि उनके टेबलेट में इंस्टॉल किए गए ऑटो-अपडेट सॉफ्टवेयर से उन तक जानकारी पहुंच जाती है.

हालांकि प्रयागराज रेलवे पर बोर्डिंग पास के बाद यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग होगी. प्लेटफॉर्म पर एंट्री से पहले यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग की प्रक्रिया की जाएगी. थर्मल स्क्रीनिंग में टेम्परेचर उपयुक्त पाए जाने पर ही यात्री को प्लेटफार्म के अंदर प्रवेश की अनुमति प्रदान की जाएगी.