नई दिल्लीः लगातार बढ़ रहे कोरोनावायरस के मामले को देखते हुए भारतीय रेलवे ने लगभग 85 ट्रेनें रद्द कर दी हैं. रेलवे ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने और सीटें खाली रहने के कारण यह कदम उठाया गया. अधिकारियों ने मंगलवार जोनल रेलवे के कैटरिंग स्टाफ के संबंध में दिशा निर्देश भी जारी किए हैं, जिसमें कहा गया है कि बुखार, खांसी, नाक बहने या सांस लेने में कठिनाई होने वाले किसी भी कर्मचारी को भारतीय रेलवे में खान-पान का जिम्मा देखने के लिए तैनात नहीं किया जाना चाहिए. Also Read - भोपाल में 'टोटल लॉकडाउन', कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए लिया गया फैसला

अधिकारियों के मुताबिक, मध्य रेलवे ने 23 ट्रेनें, दक्षिण मध्य रेलवे ने 29 ट्रेनें कीं, पश्चिमी रेलवे ने 10 ट्रेनें, दक्षिण पूर्व रेलवे ने नौ ट्रेने रद्द की हैं. इसके अलावा पूर्वी तट और उत्तर रेलवे ने पांच-पांच ट्रेनों को रद्द कर दिया और उत्तर पश्चिम रेलवे ने चार ट्रेनों को रद्द किया. इस सूची में कुछ लोकप्रिय लंबे रूट की ट्रेनें शामिल हैं. Also Read - चतुराई दिखा रहा है तबलीगी जमात का मुखिया मोहम्मद साद, क्वारंटाइन के बहाने समर्थन हासिल करने की कोशिश

  Also Read - आशीष नेहरा ने लॉकडाउन को तेज गेंदबाजों के लिए बताया ज्‍यादा चुनौतीपूर्ण, ये है वजह

एहतियाती उपाय के रूप में पश्चिमी रेलवे और मध्य रेलवे जैसे रेलवे ज़ोनों ने प्लेटफ़ॉर्म टिकट की कीमतों में वृद्धि की है, ताकि बड़ी संख्या में लोगों को प्लेटफार्म पर आने से रोका जा सके. आदेश में कहा गया है कि खाद्य पदार्थों की अच्छे से पैकिंग की जानी चाहिए और जहां तक संभव हो खुली हुई वस्तुओं के उपयोग से बचना चाहिए.

ट्रेनों के कैंसिल होने के साथ ही स्टेशनों में भीड़ को कम करने के लिए सेंट्रल रेलवे ने प्रमुख स्‍टेशनों के प्‍लेटफॉर्म टिकट की कीमत 5 गुना तक बढ़ा दी है. Coronavirus के मद्देनजर, सेंट्रल रेलवे ने अगले आदेश तक मुंबई, पुणे, भुसावल और सोलापुर डिवीजन्‍स में प्‍लेटफॉर्म टिकटों की कीमत 10 रुपए से बढ़ाकर 50 रुपए कर दी है.