नई दिल्ली: रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा है कि एक समिति ने नई मूल्यांकन प्रणाली, बोनस, प्रोत्साहन उपायों और कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाने के लिए उन्हें सम्मानित करने की सिफारिश की है. रेलवे में करीब 13 लाख कर्मी हैं. वह अपने कर्मचारियों की तरक्की के पैमाने में भी बदलाव लाने पर विचार कर रहा है ताकि यह देखा जा सके कि क्या उन्हें बेहतर प्रदर्शन के लिए और सम्मानित किया जा सकता है कि नहीं. Also Read - Indian Railways का बड़ा तोहफा, दिवाली और छठ में इन राज्यों के लिए चलेगी शताब्दी ट्रेन, जानें बुकिंग डेट और रूट्स

Also Read - सात महीने बाद फिर से गूंजी पहाड़ों की रानी की छुक-छुक, आपको सैर कराने को तैयार खड़ी है

समिति ने सिफारिश की है कि पांच साल की वार्षिक प्रदर्शन मूल्यांकन रिपोर्ट की रेटिंग की बजाय किसी कर्मी के पिछले सात सालों में पांच बेहतरीन प्रदर्शनों को देखकर उसे प्रोत्साहन की चीजें दी जाएंगी. अधिकारियों ने कहा कि रिपोर्ट में कर्मियों के लिए बेहतर आवासीय सुविधा और कर्मियों के माता-पिता के लिए मेडिकल और नि:शुल्क यात्रा सुविधाएं मुहैया कराने की अनुशंसा की गई है. आगे के अध्ययन के इच्छुक कर्मियों को वित्तीय मदद मुहैया कराने का भी सुझाव दिया गया है. Also Read - Indian Railway Bags on wheels Service: ट्रेन का सफर करना हुआ आसान, क्योंकि घर से स्टेशन तक लगेज पहुंचाएगी रेलवे

समिति के मुताबिक, सिर्फ निचले ग्रेड के कर्मियों की बजाय ग्रुप ए और ग्रुप बी के अधिकारियों को भी बोनस दिया जाए. दुर्घटना रहित सेवा के 10 साल पूरे कर लेने पर गैंगमैन और ट्रैकमैन को मौद्रिक अवॉर्ड दिए जाने की सिफारिश की गई है. लोको पायलटों को भी सम्मानित करने का सुझाव दिया गया है. इसके एक दिन पहले ही रेलवे ने वर्षों से अनुपस्थित रहने वाले करीब 13 हजार कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने की प्रक्रिया शुरू की थी.