नई दिल्ली. भारतीय रेलवे अपनी हाई स्पीड प्रीमियम ट्रेन शताब्दी एक्सप्रेस को रिप्लेस करने की तैयारी कर रही है. इसकी जगह लेने के लिए जल्द ही देश को सेमी-हाई स्पीड ट्रेन मिलने वाली है. पूरी तरह से मेड इन इंडिया ‘ट्रेन 18’ इस साल जून तक बन कर तैयार हो जाएगी. यह ट्रेन पूरी तरह से लग्जरी सुविधाओं से लैस है. रिपोर्ट के मुताबिक, ‘ट्रेन 18’ को रेलवे सबसे पहले इंटर-सिटी लेवल में लॉन्च करेगी. Also Read - अब WhatsApp पर ही मिल जाएगी ट्रेन की Live Location, PNR Status सहित सभी जरूरी जानकारी

‘ट्रेन 18’ के फीचर्स पर गौर करें तो इसे पूरी तरह से विश्वस्तरीय बनाया गया है. स्पीड की बात करें तो यह 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकेगी. ‘मेक इन इंडिया’ प्रोजेक्ट के तहत तैयार यह ट्रेन चेन्नई स्थित इंट्रीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) में बनी है. Also Read - Indian Railways Today News: Tejas के बाद इस तारीख से जयपुर-दिल्ली डबल डेकर ट्रेन सेवा पर भी ब्रेक....

 Indian railways will replace Shatabdi Express with new semi high speed train Also Read - Indian Railways: पटना से खुलनेवाली कई ट्रेनों का बदला है समय, जरूर देख लें IRCTC वेबसाइट

ये हैं फीचर्स
आईसीएफ के मुताबिक, दूसरे देशों से इस तरह के फीचर्स वाली ट्रेन मंगवाने पर खर्च ज्यादा आता है. अपने देश में ही इस बनाने पर आधे से भी कम दाम में यह ट्रेन तैयार हुई है. फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इस ‘ट्रेन 18’ में 16 चेयर-कार टाइप कोच हैं. इसमें एग्जीक्यूटिव और नॉन एक्जीक्यूटिव दोनों शामिल हैं.

बैठ सकते हैं इतने यात्री
एग्जीक्यूटिव में 56 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी. वहीं, नॉन एग्जीक्यूटिव में 78 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी. हालांकि, यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि यह ट्रेन पूरी तरह से वातानुकुलित होगी.

 Indian railways will replace Shatabdi Express with new semi high speed train
मिलेगी वाई-फाई सुविधा
रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि इस ‘ट्रेन 18’ में यात्रियों को इंटरनेट सुविधा देने का भी खासतौर पर ध्यान रखा गया है. पूरी ट्रेन में वाई-फाई कनेक्शन दिया गया है. दावा किया गया है कि इसमें जीपीएस आधारित यात्री सूचना प्रणाली भी है.

पर्यावरण का भी दिया गया है ध्यान
इस ट्रेन में पर्यावरण का भी खासतौर पर ध्यान रखा गया है. ट्रेन 18 में शून्य निर्वहन जैव-वैक्यूम शौचालय (जीरो डिस्चार्ज बायो वैक्यूम टॉयलेट) होंगे. ट्रेन के आगे और पीछे दोनों तरफ ड्राइविंग कैबिन होगी.