नई दिल्ली: केंद्र ने मंगलवार को कहा कि 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोविड-19 से मरीजों के ठीक होने की दर राष्ट्रीय औसत 63.02 प्रतिशत से बेहतर है. केंद्र ने कहा कि उसके द्वारा राज्य सरकारों के समन्वय में उठाए गए कदमों से मरीजों के ठीक होने की दर में ”क्रमिक बढ़ोतरी” हुई. उसने यह भी कहा कि देश के 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोविड-19 के कारण मृत्युदर राष्ट्रीय औसत 2.64 प्रतिशत से नीचे है. Also Read - अच्छी खबर: कोरोना की वजह से 20 साल बाद पत्नी और बच्चे से मिला शख्स...

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि घर पर पृथकवास के नए नियमों और मानकों तथा ऑक्सीमीटरों के इस्तेमाल ने बिना लक्षण वाले या हल्के लक्षण वाले मरीजों पर नियंत्रण रखने में मदद की और अस्पतालों पर बोझ भी नहीं बढ़ा. Also Read - Russia Vaccine Update: रूस ने बना ली कोरोना की वैक्सीन, क्या भारत भी करेगा इस्तेमाल, जानें एम्स की राय

मंत्रालय ने कहा, ”कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिये केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा उठाए गए अति-सक्रिय, पूर्वानुमानित और समन्वित कदमों से कोविड-19 से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या में क्रमित बढ़ोतरी हुई.”जांच में इजाफा और समय पर निदान से कोविड-प्रभावित मरीजों के बीमारी के अग्रिम चरण में जाने से पहले ही पहचान हो जाती है. Also Read - Coronavirus Cases In India: कोरोना से 24 घंटे में 834 लोगों की हुई मौत, जानें राज्यों के आंकड़े

मंत्रालय ने कहा कि निषिद्ध क्षेत्रों और निगरानी कार्यक्रमों को प्रभावी तरीके से लागू करने से यह सुनिश्चित हुआ कि संक्रमण की दर नियंत्रण में रहे. इसमें कहा गया कि एक श्रेणीबद्ध नीति और समग्र दृष्टिकोण के कारण बीते 24 घंटों के दौरान 18,850 मरीज ठीक हुए, जिससे देश में इस महामारी से अब तक ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 5,53,470 हो गई.

मंत्रालय ने कहा कि ठीक होने की दर में भी सुधार हुआ है और अब यह 63.02 प्रतिशत है, और 19 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में मरीजों के ठीक होने की दर राष्ट्रीय औसत से ज्यादा है.

 देश के इन राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में मरीजों के ठीक होने की दर राष्ट्रीय दर से ज्यादा है:
– लद्दाख (85.45 प्रतिशत)
– दिल्ली (79.98 प्रतिशत)
– उत्तराखंड (78.77 प्रतिशत)
– छत्तीसगढ़ (77.68 प्रतिशत)
– हिमाचल प्रदेश (76.59 प्रतिशत)
– हरियाणा (75.25 प्रतिशत)
– चंडीगढ़ (74.6 प्रतिशत)
– राजस्थान (74.22 प्रतिशत)
– मध्य प्रदेश (73.03 प्रतिशत)
– गुजरात (69.73 प्रतिशत)
– त्रिपुरा (69.18 प्रतिशत)
– बिहार (69.09 प्रतिशत)
– पंजाब (68.94 प्रतिशत)
– ओडिशा (66.69 प्रतिशत)
– मिजोरम (64.94 प्रतिशत)
– असम (64.87 प्रतिशत)
– तेलंगाना (64.84 प्रतिशत)
– तमिलनाडु (64.66 प्रतिशत)
– उत्तर प्रदेश (63.97 प्रतिशत)

देश के  जिन 30 राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों में कोविड-19 के कारण मृत्यु दर राष्ट्रीय औसत 2.64 प्रतिशत से कम है, उनमें लद्दाख, त्रिपुरा, असम, केरल, छत्तीसगढ़, ओडिशा, अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मेघालय, झारखंड, बिहार, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी, उत्तराखंड, तमिलनाडु, हरियाणा, चंडीगढ़, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, राजस्थान, पंजाब और उत्तर प्रदेश शामिल हैं.

मंत्रालय ने कहा कि देश में इस समय कोविड-19 के 3,01,609 मरीज उपचाराधीन हैं और अस्पतालों, कोविड देखभाल केंद्रों या घर पर पृथक-वास में चिकित्सकों की निगरानी में हैं.इसमें कहा गया कि उपचाराधीन मामलों से ठीक हो चुके मरीजों की संख्या 2,51,861 ज्यादा है.