नई दिल्ली: स्वदेश में विकसित लेजर चालित एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल (एटीजीएम) का गुरुवार को एक बार फिर से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया. यह लंबी दूरी तक निशाना साधने में सक्षम है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस सफल उपलब्धि के लिए रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) को बधाई दी. Also Read - ब्रह्मोस की एक्सटेंडेड रेंज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के टेस्‍ट का वीड‍ियो सामने आया, 400 KM तक सटीक निशाना

इसकी टेस्टिंग महाराष्ट्र के अहमदनगर में एमबीटी टैंक अर्जुन के जरिए केके रेंज में की गई. इससे पहले इसका ट्रायल ड्रोन पर भी सफल रहा है. वह टेस्ट 22 सितंबर को किया गया था. मंत्रालय ने कहा, “यह कई-प्लेटफॉर्म लॉन्च क्षमता के साथ विकसित किया गया है और वर्तमान में एमबीटी अर्जुन की 120 मिमी राइफल वाली बंदूक से तकनीकी मूल्यांकन परीक्षण चल रहा है.” Also Read - Released! DRDO CEPTAM Tier 2 Admit Card 2020: डीआरडीओ ने जारी किया इन विभिन्न परीक्षाओं का एडमिट कार्ड, इस डायरेक्ट लिंक से करें चेक

इस मिसाइल को डीआरडीओ के आयुध अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (एआरडीई) पुणे, उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (एचईएमआरएल) पुणे और इंस्ट्रमेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट (आईआरडीई) देहरादून के सहयोग से विकसित किया गया है. Also Read - चीन के खिलाफ चौतरफा तैयारी: 44 में से 30 पुल LAC को करेंगे कनेक्ट, 50 टन के T-90 टैंक को भी ले जाना हुआ आसान