नई दिल्ली: पायलटों की कमी से जूझ रही इंडिगो ने मंगलवार को 30 और उड़ानें रद्द कर दीं. सूत्र ने बताया कि इस वजह से यात्रियों को अंत समय में कथित तौर पर भारी किराया चुकाकर उड़ानों के लिए टिकटें खरीदनी पड़ीं. सोमवार को भी कंपनी ने 32 उड़ानें रद्द की थीं.नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) की ओर से अभी तक इस संबंध में जांच करने का कोई संकेत दिखाई नहीं दिया है. जबकि इंडिगो पिछले शनिवार से लगातार बड़ी संख्या में अपनी उड़ानें रद्द कर रही है. सूत्र ने जानकारी दी कि इंडिगो ने पायलटों की कमी के चलते मंगलवार को 30 उड़ानें रद्द कीं. यह उड़ानें कोलकाता, हैदराबाद और चेन्नई से रवाना होनी थी.

उन्होंने बताया कि कोलकाता से आठ उड़ानें, हैदराबाद से पांच, बेंगलुरू से चार और चेन्नई से भी चार उड़ानों के साथ अन्य स्थानों से भी उड़ानें रद्द की गई हैं. सूत्र ने यह भी आरोप लगाया कि इंडिगो यात्रियों को अंत समय में भारी किराये पर वैकल्पिक उड़ानों का टिकट खरीदने को मजबूर कर रही है. एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि DGCA इस मामले को देख रहा है. खराब मौसम और अन्य कारणों की वजह से इंडिगो हर दिन 30 फ्लाइट्स रद्द कर रहा है.

इंडिगो के बेंगलुरु से बैंकॉक जा रहे एक विमान में मंगलवार को तकनीकी गड़बड़ी आने के बाद उसका मार्ग बदलकर उसे म्यामां के यंगून भेज दिया गया. एअरलाइन ने एक बयान में बताया कि विमान में 129 यात्री एवं चालक दल के छह सदस्य सवार थे. विमान यंगून में सुरक्षित उतर गया. बयान में बताया गया, बेंगलुरु से बैंकॉक मार्ग पर उड़ान भरने वाली इंडिगो की फ्लाइट 6ई075 को अपने इंजनों में से एक में तेल के दबाव संबंधी चेतावनी का पता चला. यह विमान ए320 विमान है जिसमें वी2500 इंजन लगा हुआ है. हमारे पायलट ने निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया और विमान सुरक्षित यंगून में उतार गया.

एअरलाइन से बताया कि इससे पहले की उड़ान में विमान में किसी भी तरह की गड़बड़ी की बात सामने नहीं आई थी. एअरलाइन ने बताया, “इंडिगो ने पहले से ही सभी 129 यात्रियों को दूसरे एयरलाइनों के जरिए बैंकॉक भेजने के लिए रीबुकिंग कर दी है और बैंकॉक से बेंगलुरु वापस आने वाले सभी यात्रियों की रीबुकिंग की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इंडिगो जरूरत के मुताबिक यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था करेगा.” इंडिगो ने बताया, “प्रभावित इंजन की जांच की जा रही है और आगे की कार्रवाई उसी आधार पर होगी.