पालू: इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप में आए ताकतवर भूकंप और इससे पैदा हुई सुनामी की चपेट में आने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 420 हो गई है. रविवार को सरकारी मीडिया ने यह जानकारी दी. इस बीच,भूकंप-सुनामी से सबसे अधिक प्रभावित पालू शहर में राहत एवं बचाव कर्मियों के पहुंचने का सिलसिला जारी है. इस आपदा में जीवित बचे लोग मृतकों के शव बरामद करने में अधिकारियों की मदद कर रहे हैं. इंडोनेशिया की सरकारी न्यूज एजेंसी ‘अंतारा’ ने राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के प्रमुख के हवाले से पालू में मारे गए लोगों का ताजा आंकड़ा बताया. Also Read - कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय का बड़ा बयान, कहा- हम अभी लोकल ट्रांसमिशन के चरण में हैं

अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि 7.5 तीव्रता के भूकंप और सुनामी में पांच-पांच फुट ऊंची उठी लहरों की चपेट में आए हताहतों की संख्या ‘बढ़ रही है’, क्योंकि अब सुदूर इलाकों से नुकसान की सूचनाएं मिल रही हैं. एजेंसी के एक प्रवक्ता ने कहा कि कम से कम 540 लोग बुरी तरह घायल हुए हैं. अस्पतालों को बड़ी संख्या में भर्ती किए जा रहे घायलों के इलाज में काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने कहा कि क्षेत्र में सेना को बुलाया गया है ताकि वह पीड़ितों तक पहुंचने और शवों को तलाशने में खोज एवं बचाव टीमों की मदद कर सके. Also Read - Coronavirus से देश में अबतक 29 मौतें, कुल संक्रमितों की संख्‍या 1,071 हुई: Health Ministry

कुछ सरकारी विमान राहत सामग्री लेकर पालू के प्रमुख हवाई अड्डे तक पहुंचे हैं. लेकिन अधिकारियों का कहना है कि अगले कुछ दिनों तक यह हवाई अड्डा वाणिज्यिक उड़ानों के लिए बंद रहेगा. शुक्रवार की शाम को समुद्र तट पर जश्न की तैयारी में जुटे लोग लापता बताए जा रहे हैं. उनके बारे में अब तक कोई जानकारी नहीं मिलने से चिंता की स्थिति बनी हुई है. यह जानकारी आपदा एजेंसी ने दी. करीब साढ़े तीन लाख की आबादी वाले पालू में शुक्रवार को सुनामी की चपेट में आने से मारे गए लोगों के शव समुद्र तट पर नजर आ रहे हैं. Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग में बड़ी कामयाबी, देश की इस बेटी ने बनाई 1200 रुपये की किट, टेस्ट शुरू

भारत ने सुनामी प्रभावित इंडोनेशिया के लोगों और सरकार से गहरी सहानुभूति प्रकट की और हर संभव मदद का आश्वासन दिया है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 73 वें सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया को इंडोनेशिया के बारे में बहुत दुर्भाग्यपूर्ण खबर मिली है जो एक साथ भूकंप और सुनामी से प्रभावित हुआ है. भारत की ओर से मैं, इस मंच से इंडोनेशिया के लोगों और सरकार से गहरी सहानुभूति प्रकट करती हूं. आपदा से निपटने के लिए इंडोनेशिया को भारत की हर मुमकिन मदद का आश्वासन देती हूं.