शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है लेकिन उस पर इलाज का असर हो रहा है। अस्पताल प्रशासन ने आज यह जानकारी दी। सरकारी जे जे अस्पताल के डीन डा. टी पी लहाने ने बताया कि इंद्राणी को होश नहीं आया है और डॉक्टर उसे होश में लाने के लिए जी जान से जुटे हुए हैं।

वही इंद्राणी वेंटीलेटर पर नहीं है लेकिन उसे अभी ऑक्सीजन लगी हुई है क्योंकि वह अपने आप से सांस ले पाने में सक्षम नहीं है। गौरतलब है कि डॉ लहाने ने बीती रात बताया था कि हिंदुजा अस्पताल से इंद्राणी के मूत्र के नमूने की एक रिपोर्ट में उनके शरीर में अवसाद रोधक दवा बेंजोडाइजेपाइन का स्तर अधिक होने की पुष्टि हुई है। यह भी पढ़े-इंद्राणी मुखर्जी की हालत में सुधार नहीं, CM ने दिए जांच के आदेश

गौरतलब है कि मीडिया की जानी मानी हस्ती पीटर मुखर्जी की पत्नी इंद्राणी को खार पुलिस ने अपनी पहली शादी से पैदा हुई बेटी शीना बोरा की वर्ष 2012 में हुई हत्या में कथित भूमिका को लेकर 25 अगस्त को गिरफ्तार किया था।

इंद्राणी की 24 वर्षीय बेटी का बांद्रा में नेशनल कॉलेज के बाहर से अपहरण कर लिया गया था और एक कार में इंद्राणी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना तथा ड्राइवर श्यामवर राय ने कथित रूप से गला घोंट कर हत्या कर दी थी। यह भी पढ़े-इंद्राणी मुखर्जी की हालत नाज़ुक, हॉस्पिटल में भर्ती

दूसरी तरफ इंद्राणी के वकील ने अस्पताल में उससे मिलने की अनुमति हासिल करने के लिए स्थानीय अदालत में याचिका दाखिल की है और अदालत ने उसकी हालत के बारे में फिर से रिपोर्ट मांगी है। सुनवाई के दौरान शीना बोरा हत्याकांड की जांच को अपने हाथ में लेने वाली सीबीआई ने अदालत को बताया कि जांच शुरूआती चरण में है और अपराध की गंभीरता बहुत अधिक है। यह भी पढ़े-शीना बोरा हत्याकांड में मुंबई पुलिस को लगा तगड़ा झटका, महाराष्‍ट्र सरकार ने जांच सीबीआई को सौंपी

डॉ लहाने और सिंह ने यह भी कहा कि इंद्राणी की बड़ी आंत की सफाई के नतीजे नकारात्मक रहे। जे जे अस्पताल की रिपोर्ट में कहा गया है कि इंद्राणी को जब बेहोशी की हालत में अस्पताल लाया गया था तब उनके गैस्ट्रिक टेस्ट में दवा का कोई अंश नहीं मिला। यह भी पढ़े-शीना बोरा केस: इंस्पेक्टर का दावा, SP ने नहीं दर्ज करने दी FIR