शीना बोरा मर्डर केस में आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की हालत गंभीर बनी हुई है। इंद्राणी का इलाज मुंबई के जेजे अस्पताल में चल रहा है। डॉक्टर के मुताबिक, उनकी हालत में कोई सुधार नहीं है। सांस लेने की दिक्कत की वजह से उन्हें ऑक्सीजन दी जा रही है।

जेजे अस्पताल के डीन डॉक्टर लहाने के मुताबिक अभी ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि इंद्राणी मुखर्जी की हालत खतरे से बाहर है। क्योंकि सांस लेने की प्रक्रिया नॉर्मल नहीं है।

इंद्राणी ने जेल में दवाओं का ओवरडोज़ लिया था, जिससे उसकी तबीयत बिगड़ी और बेहोशी की हालत में उसे अस्पताल ले जाया गया था। अब सवाल ये उठ रहा है कि आख़िर जेल के अंदर इंद्राणी ने दवा का ओवरडोज़ कैसे लिया, जबकि उसे हर दिन दो गोलियां लेनी होती थीं। मामले की गंभीरता को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। आईजी जेल इस पूरे मामले की जांच करेंगे। इसे जेल प्रशासन की तरफ से लापरवाही माना जा रहा है। यह भी पढ़े-इद्राणी मुखर्जी की हालत नाज़ुक, हॉस्पिटल में भर्ती

इंद्राणी मुखर्जी की हालत खराब होने के बाद सीबीआई, स्थानीय पुलिस व जेल अध‍िकारी रात में पूछताछ के लिए अस्पताल गए। मुलाकात के लिए परिवार का कोई सदस्य नहीं पहुंचा।

सूत्रों के मुताबिक, इंद्राणी की सेहत एंटी एपि‍लेप्टिक दवाओं का ओवरडोज लेने से बिगड़ गई। इंद्राणी मुंबई के ऑर्थर रोड जेल में न्यायिक हिरासत में थीं। डॉक्टरों का कहना है कि इंद्राणी का एमआरआई सामान्य है। यह भी पढ़े-शीना बोरा हत्याकांड में मुंबई पुलिस को लगा तगड़ा झटका, महाराष्‍ट्र सरकार ने जांच सीबीआई को सौंपी

शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी मुखर्जी, उसके पहले पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्याम राय के ख़िलाफ़ मर्डर, किडनैपिंग समेत कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस रिमांड ख़त्म होने के बाद से इंद्राणी जेल में थी।

जेल विभाग के मुख्य सचिव सतबीर सिंह के मुताबिक, इंद्राणी को रोजाना एंटी डिप्रेशन की दो गोलियां दी जाती थीं। जेजे अस्पताल के ही डॉक्टर उनका इलाज कर रहे थे. हो सकता है कि इंद्राणी ने इन्हीं गोलियों को जमा करके एक साथ खा लिया हो। इंद्राणी को 11 सितंबर से दवा दी जा रही थी। यह भी पढ़े-शीना बोरा केस: इंस्पेक्टर का दावा, SP ने नहीं दर्ज करने दी FIR

उधर इंद्राणी की वकील गुंजन मंगला का कहना है कि उन्हें किसी दवा की जरूरत नहीं थी। उनकी तरफ से इंद्राणी को किसी भी तरह की दवा देने के लिए आवेदन नहीं किया गया था, न ही जेल प्रशासन की तरफ से इसकी जानकारी दी गई थी। यह भी पढ़े-शीना बोहरा हत्याकांड: जानिए किसने दी मुंबई पुलिस को हत्या की जानकारी

वही दूसरी तरफ ऐसी अटकलें हैं कि इंद्राणी इस पुरे वाकये से परेशान थी जिसके चलते उन्होंने आत्महत्या करने की कोशिश की। पिछली शादी से पैदा हुई अपनी बेटी शीना बोरा की अप्रैल 2012 में हुई हत्या में कथित भूमिका को लेकर 25 अगस्त को इंद्राणी को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में दो अन्य आरोपी श्यामवर राय और इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना हैं। राय उनका कार चालक है। शुरू से ही इस हत्याकांड मामले में चौंकानेवाले खुलासे होते रहे है।