नई दिल्ली. भारतीय नौसेना का सबसे बड़ा युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य युद्धाभ्यास में शामिल हो सकता है. इस युद्धपोत को कई आधुनिक हथियारों व सेंसरों से लैस किया गया है. आईएनएस विक्रमादित्य 10 जुलाई को अपनी पहली अंतर्राष्ट्रीय नौसैनिक के साथ युद्धाभ्यास में भाग ले सकता है. इस युद्धाभ्यास में भारत के साथ अमेरिका और जापान शामिल होंगे.Also Read - Fire On INS Vikramaditya: विमान वाहक पोत INS विक्रमादित्य में आग, सभी कर्मचारी सुरक्षित

तीनो देश अपने जंगी जहाज, पनडुब्बी समेत खाड़ी में मालाबार युद्धाभ्यास करेंगे. जिसमें 15 जंगी बेड़े, दो सबमरीन और ढेरों फाइटर जेट्स, टोही विमान व हेलिकॉप्टर हिस्सा लेंगे. खबरों के मुताबिक इस युद्ध अभ्यास में अमेरिका अपने यूएसएस निमित्सज विमान वाहक के साथ भाग ले रहा है, तो वहीं जापान अपने नौसेना में सबसे बड़े युद्धपोत Izumo हेलीकाप्टर वाहक भेज रही है, वहीं भारत 44570 टन वजनी एयरक्राफ्ट करियर आईएनएस विक्रमादित्य की अगुआई में शामिल होगा. Also Read - मिग-29 का ट्रेनर विमान अरब सागर में दुर्घटनाग्रस्त, एक पायलट लापता, जांज के दिए गए आदेश

गौरतलब हो की सिक्किम में भारत और चीन में ठनी हुई है. दोनों देश मैदान में डटे हुए हैं. जहां चीन 1962 का हवाला देकर भारत को धमका रहा है. वहीं भारत भी चीन को समझा चूका है कि वक्त बदल गया है. फिलहाल अगर भारत अमेरिका और जापान के साथ मिलकर युद्धअभ्यास करता है तो चीन के होश उड़ सकते हैं. Also Read - तेजस का नौसेना प्रारूप INS विक्रमादित्य पर सफलतापूर्वक उतरा, देखें VIDEO