International Flights Latest News: एयर इंडिया एक्सप्रेस ने कहा कि कोविड-19 प्रमाण-पत्र वाले दो यात्रियों को 28 अगस्त और चार सितंबर को लाने के लिये दुबई नागर विमानन प्राधिकरण ने शुक्रवार को उसकी उड़ानों पर 24 घंटे के लिये रोक लगा दी. संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) सरकार के नियमों के अनुसार भारत से यात्रा करने वाले प्रत्येक यात्री को यात्रा से 96 घंटे पहले आरटी-पीसीआर परीक्षण कराना होगा और उनके पास जांच में संक्रमण की पुष्टि नहीं होने वाला प्रमाणपत्र होना अनिवार्य है. Also Read - आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास कोरोना वायरस से संक्रमित, बोले- लोगों से अलग रह कर काम जारी रखूंगा

इससे पहले दिन में एयर इंडिया एक्सप्रेस ने कहा कि उसे दुबई नागर विमानन प्राधिकरण (डीसीएए) से 17 सितंबर को एक नोटिस मिला है जिसमें विभिन्न उड़ानों से कोविड-19 संक्रमित दो यात्रियों को दुबई लाने पर एयरलाइंस की दुबई की उड़ानों को 18 सितंबर से दो अक्टूबर तक रोके जाने की बात कही गई है. बाद में एयरलाइंस ने एक अन्य बयान जारी किया जिसमें उसने उल्लेख किया कि दुबई के लिये और दुबई से उसकी उड़ान मूल कार्यक्रम के मुताबिक 19 सितंबर से संचालित होंगी. Also Read - पूरे देश को कोरोना टीका मुफ्त में मिलना चाहिए, वायरस से सभी लोग परेशान हैं: केजरीवाल

एक सरकारी अधिकारी ने कहा, “एक यात्री के पास दो सितंबर को कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि वाला प्रमाणपत्र था और उसने चार सितंबर को एयर इंडिया एक्सप्रेस की ‘जयपुर-दुबई’ उड़ान से यात्रा की थी. इसी तरह की एक अन्य घटना पहले भी हुई थी, जहां एक यात्री ने दुबई के लिए एयर लाइंस की एक अन्य उड़ान से यात्रा की थी.” पिछले महीने, एयर इंडिया की यात्री उड़ान को 18 अगस्त से 31 अगस्त के बीच हांगकांग में लैंडिंग से रोक दिया गया था. 14 अगस्त को दिल्ली-हांगकांग उड़ान में गंतव्य पर पहुंचने के बाद 14 यात्री कोविड-19 संक्रमित पाए गए थे. Also Read - वित्त मंत्री ने फिर दोहराया, 'बिहार चुनाव घोषणा-पत्र में फ्री कोरोना टीके का वादा बिल्कुल सही'

हांगकांग सरकार द्वारा जुलाई में जारी किये गए नियमों के मुताबिक यात्रा से 72 घंटे पहले कराई गई कोविड-19 जांच में संक्रमित नहीं होने के प्रमाण के बाद ही यात्रियों को वहां प्रवेश की इजाजत है. एयर इंडिया एक्सप्रेस एयर इंडिया की सहायक एयरलाइंस है. पहले बयान में एयरलाइंस ने कहा, “दिल्ली और जयपुर में एयरलाइन के ‘ग्राउंड हैंडलिंग एजेंटों’ द्वारा क्रमशः 28 अगस्त और चार सितंबर को दुबई के लिए एयर इंडिया एक्सप्रेस उड़ान में कोरोना वायरस से संक्रमित एक यात्री की यात्रा करने के संबंध में नोटिस जारी किया गया है.” उसने कहा कि हवाई अड्डा परिचालन (ग्राउंड हैंडलिंग) एजेंसियों ने दिल्ली और जयपुर में इस चूक के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों के खिलाफ उचित दंडात्मक कार्रवाई की है.

जयपुर हवाईअड्डे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस की ग्राउंड हैंडलिंग ‘एयर इंडिया एयर ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड’ (एआईएटीएसएल) द्वारा की जाती है, जो कि राष्ट्रीय विमान सेवा एयर इंडिया की सहायक कंपनी है. दिल्ली हवाईअड्डे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस की ग्राउंड हैंडलिंग का काम एयर इंडिया एसएटीएस एयरपोर्ट सर्विसेज प्राइवेट लिमिडेट द्वारा किया जाता है. यह एयर इंडिया और सिंगापुर एयरपोर्ट टर्मिनल सर्विसेज (एसएटीएस) लिमिडेट की 50-50 प्रतिशत हिस्सेदारी वाला संयुक्त उपक्रम है.

एयर इंडिया एक्सप्रेस ने एक बयान में कहा, “जुटाई गई सूचना के मुताबिक प्रत्येक उड़ान में कोविड संक्रमित यात्री के करीब बैठे अन्य यात्रियों की कोविड जांच/पृथकवास कराया गया है जैसा कि दुबई के स्वास्थ्य अधिकारियों ने तय किया.” अधिकारियों ने कहा कि एजेंसियों को यात्रियों की जांच में अतिरिक्त सतर्कता व सावधानी बरतने को कहा है. एयरलाइंस ने कहा कि उसने दुबई की उड़ानों के स्थगित होने की वजह से परेशान यात्रियों को भेजने के लिये शारजाह की उड़ानों की संख्या बढ़ा दी दै.

उसने कहा, “दुबई की उड़ान के लिये टिकट बुक कराने वाले यात्रियों को आगे की किसी तारीख पर टिकट बुक कराने का भी विकल्प दिया गया है.” दूसरे बयान में एयरलाइंस ने कहा, “एयर इंडिया एक्सप्रेस की सभी दुबई के लिये और दुबई से सभी उड़ानें 19 सितंबर 2020 से मूल कार्यक्रम के मुताबिक संचालित होंगी.”