नई दिल्ली: 21 सितंबर यानी विश्व शांति दिवस (International Peace Day) है. हर साल इसी दिन यह दिवस मनाया जाता है. इस विश्व शांति दिवस को मनाने का मकसद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हर जगह शांति कायम हो. देशों और नागरिकों के बीच साथ ही यह भी प्रयास किया जाता है कि अंतरराष्ट्रीय झगड़ों पर भी विराम लगे. अपनी इसी बात को दुनिया तक पहुंचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने हर क्षेत्र जैसे साहित्य, कला, सिनेमा,संगीत और खेल जगत की प्रसिद्ध हस्तियों को शांतिदूत नियुक्त किया गया है.

इस साल विश्व शांति दिवस समारोह का थीम ‘Climate Action for Peace’ है. इस थीम का मकसद है दुनिया के लोगों को यह बताना कि शांति बनाए रखने के लिए जलवायु परिवर्तन को नियंत्रित करना बेहद जरूरी है. जलवीयु में आए दिन हो रहे परिवर्तन विश्व की शांति और सुरक्षा के लिहाज से बेहद खतरनाक है.

आपको बता दे कि विश्व शांति दिवस को साल 1981 से मनाया जा रहा है. संयुक्त राष्ट्र ने दुनिया भर में इस दिन को मनाने की घोषणा की ताकि तमाम देशों और उनके लोगों के बीच शांति कायम रह सके. उस वक्त का थीम ‘Right to peace of people’ था.

साल 1982 से लेकर विश्व शांति दिवस को हर साल सितंबर महीने के तीसरे मंगलवार के दिन मनाया जाता था. बाद इसे बदलकर साल 2002 में 21 सितंबर कर दिया गया. 2002 के बाद से यह दिवस 21 सितंबर के दिन ही हर साल मनाया जाता है. सफेद कबूतरों को हमेशा से शांतिदूत माना जाता है इसलिए इस दिन सफेद कबूतरों को उड़ाने की परंपरा भी है.