नई दिल्लीः अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर केंद्र सरकार ने महिलाओं के लिए शानदार योजना लॉन्च की है. सरकार ने बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन लॉन्च की है जिसकी कीमत ढाई रुपए प्रति पैड होगी. यह पैड देश के 586 जिलों में सेंट्रल मेडिसिन डिस्ट्रीब्यूशन आउटलेट्स पर मिलेगा. इसे ‘सुविधा’ नाम दिया गया है. सरकार की इस योजना के तहत एक पैड में चार नैपकिन्स होंगे जिसकी कीमत 10 रुपए रखी गई है. वहीं बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन की कीमत बाजार में 30 रुपए से लेकर 80 रुपए तक है. Also Read - जीएसटी काउंसिल ने सैनेटरी नैपकिन किया टैक्स फ्री, इन सामानों के भी घटे दाम

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने इस मौके पर कहा कि इस समय बाजार में एक नैपकिन की कीमत 8 रुपए है. हमारी कोशिश इसे 2.50 रुपए पर लाने की है. यह बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन का पहला सेट है जो बाजार में आया है. बाजार में उपलब्ध अन्य पैड की तुलना में यह बहुत सस्ता है. सुविधा नैपकिन्स को देश के 3200 जन औषधि स्टोर से खरीदा जा सकता है. सरकार का कहना है कि कम दाम वाले सैनेटिरी नैपकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस वादे के तहत लाए गए हैं जिसमें उन्होंने हेल्थ से संबंधित प्रॉडक्ट को सस्ते दामों पर उपलब्ध कराने की बात कही थी. Also Read - Indigenous businesses will be affected by not GST on sanitary napkins says Maneka Gandhi | सैनिटरी नैपकिन पर जीएसटी न होने से स्वदेशी कारोबार प्रभावित होगा : मेनका गांधी

गौरतलब है कि दिल्ली जंक्शन और हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशनों पर गुरुवार को स्वचालित सैनिटरी नैपकिन वेंडिंग मशीनों का भी उद्घाटन किया गया. रेल मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी. महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान बेहतर स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए चलाए जा रहे अभियानों में अपना योगदान देते हुए रेलवे ने हाल ही में पर्यावरण के अनुकूल और सस्ते सैनिटरी पैड लांच करने की पहल को शुरू किया है. रेलवे महिला कल्याण केंद्रीय संगठन, नई दिल्ली की विशेष उत्पादन इकाई ‘दस्तक’ ने इन पैडों का उत्पादन कियाहै .

उत्तरी रेलवे महिला कल्याण संगठन की अध्यक्ष अनीता चौबे ने इन दोनों स्टेशनों पर वेंडिंग मशीन का उद्घाटन किया. ये मशीनें नई दिल्ली और भोपाल रेलवे स्टेशनों और देशभर में रेलवे कार्यालयों पर पहले ही लगाई जा चुकी हैं. रेलवे ने पहले चरण में 200 स्टेशनों पर इन मशीनों को लगाने का लक्ष्य रखा है.