नई दिल्ली: केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने मंगलवार को लोकसभा में कहा कि कश्मीर घाटी में युवाओं को भड़काने के मकसद से पाकिस्तान की ओर से सोशल मीडिया पर डाले जा रहे भारत विरोधी भड़काऊ पोस्टों को रोकने के लिए जम्मू कश्मीर में इंटरनेट पर प्रतिबंध लगाया गया है.

जम्मू कश्मीर में पांच अगस्त से इंटरनेट पर प्रतिबंध लगा हुआ है. पांच अगस्त को ही केंद्र सरकार ने राज्य के विशेष दर्जे से संबंधित अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने और इसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने की घोषणा की थी.

रेड्डी ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, ‘‘घाटी के युवाओं को उकसाने तथा आतंकवादियों एवं आतंकवाद को महिमामंडित करने के मकसद से सीमापार से सोशल मीडिया पर डाले जा रहे भारत विरोधी भड़काऊ पोस्टों के मद्देनजर इंटरनेट पर कुछ पाबंदियां लागू की गयी हैं.’’ उन्होंने कहा कि उक्त फैसले के मद्देनजर कुछ ऐहतियाती कदम भी उठाये गये थे जिनमें काफी हद तक ढील दी गई है. रेड्डी ने कहा, ‘‘ जम्मू कश्मीर सरकार ने जानकारी दी है कि घाटी में सभी आवश्यक सेवाएं सामान्य तरीके से चल रही हैं.’’