नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो की टीम आईएनएक्स मीडिया मामले में पूछताछ के लिए रविवार को पूर्व वित्त मंत्री एवं कांग्रेसी नेता पी.चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को मुंबई लेकर आ गई है. सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि कार्ति एयर इंडिया के विमान से सुबह आठ बजे मुंबई के लिए रवाना हुए थे. भायखला जेल में सीबीआई की टीम द्वारा कार्ति चिदंबरम को इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी के आमने-सामने बिठाकर पूछताछ की है. इसके बाद सीबीआई टीम कार्ति को भायखला जेल से वापस लेकर आ गई. इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी इस वक्त मुंबई की जेल में बंद हैं.

बता दें कि, कार्ति को बीते बुधवार को चेन्नई एयरपोर्ट से उस समय गिरफ्तार कर लिया गया था, जब वह लंदन से लौटे थे. इसके बाद सीबीआई की अदालत ने एक मार्च को कार्ति चिदंबरम को छह मार्च तक के लिए हिरासत में भेज दिया था.

ये भी पढ़े : चिदंबरम ने कार्ति की पीठ पर हाथ रखकर दिया दिलासा, बोले- ‘ बेटे! चिंता मत करो, मैं हूं ना’

आरोप है कि कार्ति ने 2007 में विदेशी निवेश प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) से निवेश के लिए मंजूरी दिलाने के लिए मुंबई की आईएनएक्स मीडिया से 3.5 करोड़ रुपए की घूस ली थी. आईएनएक्स मीडिया का नाम बदलकर अब 9एक्स मीडिया हो गया है और उस समय इसका संचालन पीटर और इंद्राणी मुखर्जी करते थे, दोनों ही शीना बोरा हत्याकांड में आरोपी हैं. इस मामले में आरोपी इंद्राणी ने एक मजिस्ट्रेट के समक्ष कहा था कि कार्ति उनसे दिल्ली के एक होटल में मिला था और एफआईपीबी मंजूरी के लिए 10 लाख डॉलर की मांग की थी.

मामले पर एक नजर
-सीबीआई ने 15 मई 2017 को मामले में एफआईआर दर्ज की
– सीबीआई और ईडी ने पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति के स्वामित्व वाले घरों एवं दफ्तरों पर कई बार छापे मारे
– प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने कार्ति चिदंबरम से इस मामले में कई बार पूछताछ की.
– आरोप:  2007 में पी. चिदंबरम के वित्त मंत्री रहने के दौरान आईएनएक्स मीडिया को विदेशों से 305 करोड़ रुपए की रकम प्राप्त करने के लिए एफआईपीबी मंजूरी मिलने में अनियमितताएं की गई.
– आरोप: एफआईपीबी मंजूरी दिलवाने में मामले में कार्ति को 10 लाख रुपए मिले था.
-सीबीआई का आरोप: कार्ति ने टैक्‍स जांच को टालने के लिए आईएनएक्स मीडिया से धन भी लिया था
– आईएनएक्स मीडिया को मंजूरी दिलवाने वक्त इस कंपनी के मालिक पीटर और इंद्राणी मुखर्जी थे.

(इनपुट एजेंसी)