नई दिल्लीः लंबे समय से गंभीर बीमारी से जूझ रहे इरफान खान का बुधवार को मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया. साल 2018 में ही इरफान खान न्यूरोइंडोक्राइन ट्यूमर की पुष्टि हुई थी, जिसके बाद वह इलाज के लिए लंदन चले गए. काफी समय तक चले इलाज के बाद सेहत में सुधार होने के बाद उन्होंने फिल्म ‘अंग्रेजी मीडियम’ पूरी की, लेकिन वह फिल्म के प्रमोशन में हिस्सा नहीं ले सके. Also Read - BAFTA Awards 2021 Winner List: जानिए कौन सी रही बेस्ट फिल्म, किस एक्टर ने मारी बाजी, आदर्श गौरव चूक गए..? पूरी लिस्ट

दरअसल, फिल्म के दौरान उनकी तबीयत खराब हो गई थी, जिसके चलते उन्होंने फिल्म के प्रमोशन से दूरी बनाने का फैसला किया. लेकिन, उन्होंने अपने फैंस के लिए एक ऑडियो मैसेज जारी किया था, जो उनका आखिरी मैसेज साबित हुआ. Also Read - BAFTA 2021 में इरफान खान-ऋषि कपूर को दी गई श्रद्धांजलि, फैंस बोले- दिल दुखी हो गया

अपने इस ऑडियो मैसेज में इरफान खान ने कहा था ‘हैलो भाईयों-बहनों मैं इरफान खान. मैं आज आपके साथ हूं भी और नहीं भी. खैर, ये फिल्म अंग्रेजी मीडियम मेरे लिए बहुत खास है. सच मानिए मेरी दिली ख्वाहिश थी कि इस फिल्म को उतने ही प्यार से प्रमोट कर सकूं, जितने प्यार से इसे बनाया गया है. लेकिन, मेरे शरीर के अंदर कुछ अनवॉन्टेड मेहमान बैठे हैं, जिनसे वार्तालाप चल रही है. देखते हैं किस कर्वट ऊंट बैठता है. जैसा भी होगा आपको इत्तला कर दी जाएगी.’ Also Read - Irrfan Khan son Babil: दिवंगत एक्टर इरफान खान के बेटे बाबिल ने किया मेकअप, लोग बोले- लड़की, जवाब में मिला- मर्द का मतलब

अपने ऑडियो मैसेज में इरफान आगे कहते हैं, ‘सच में जब जिंदगी आपके हाथ में नींबू थमाती है न तो शिकंजी बनाना बहुत मुश्किल हो जाता है. लेकिन आपके पास पॉजिटिव रहने के अलावा और कोई ऑप्शन नहीं रहती. इन हालातों में नींबू की शिकंजी बना भी पाते हैं या नहीं, ये आप पर निर्भर करता है. पर हम सबने इस फिल्म को उसी पॉजिटिविटी के साथ बनाया है और मुझे उम्मीद है कि यह फिल्म आपको सिखाएगी, हंसाएगी, रुलाएगी फिर हंसाएगी शायद.’