CoronaVirus In India: भारत में कोरोना वायरस के आने के बाद तरह-तरह की अफवाहें भी सोशल मीडिया के जरिए फैलाई जा रही हैं. इनमें कोरोना वायरस से लेकर वैक्सीन तक को लेकर देश में अलग-अलग की कई अफवाहें रोज चलती रही हैं और सरकार को हर बार इन अफवाहों के खिलाफ जांच कर इसकी सच्चाई लोगों के सामने रखनी पड़ती है. कुछ दिनों से एक व्हाट्सऐप मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि सरकार हर किसी को ‘कोरोना केयर फंड योजना’ के तहत 4000 रुपए की सहायता राशि प्रदान कर रही है.Also Read - Vivek Oberoi अभिनीत PM Modi की बायोपिक ओटीटी पर इस दिन होगी रिलीज, सामने आया Trailer- VIDEO

जानिए इस अफवाह की सच्चाई Also Read - मेरे जन्मदिन पर 2.5 करोड़ टीके लगने से एक राजनीतिक दल को बुखार आ गया: PM मोदी

देश में कोरोना वायरस से जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को मुआवजा देने के मामले में एक तरफ देश का सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है तो दूसरी तरफ इस तरह की अफवाहें. तो जानिए पूरा सच क्या है, क्या सरकार कोरोना पीड़ितों को चार-चार हजार रुपये सहायता राशि के तौर पर दे रही है? Also Read - PM Modi को जन्मदिन की बधाई देने में गलती कर गए Salman Khan, देखते ही लोगों ने जताई नाराजगी

पीआईबी के अधिकारिक फैक्ट चेक ट्विट हैंडल ने इस दावे को गलत बताते हुए सिरे से खारिज किया हैं और लिखा है कि, सोशल मीडिया संदेश में दावा किया जा रहा है कि भारत सरकार ‘कोरोना केयर फंड योजना’ के तहत सभी को 4,000 की सहायता राशि प्रदान कर रही है, जो पूरी तरह से गलत और फर्जी है. भारत सरकार की ओर से ऐसी कोई योजना नहीं चलाई जा रही है.

दरअसल, व्हाट्सऐप से लेकर सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि भारत सरकार ‘कोरोना केयर फंड योजना’ के तहत सभी को 4000 रुपए की सहायता राशि प्रदान कर रही है. इसमें यह भी दावा किया जा रहा है कि नीचे फॉर्म भरकर अप्लाई करने से चार हजार रुपए मिल जाएंगे.