चेन्नई: इस साल सतीश धवन स्पेस सेंटर, श्रीहरिकोटा से इसरो 14 रॉकेट लॉन्च करने वाला है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी कि इसरो करीब 32 मिशन पर काम कर रहा है. इसमें चंद्रयान-2 के लिए GSLV Mk III भी शामिल है.

अपने नये साल के संदेश में Isro के अध्यक्ष के सिवान ने कहा कि साल 2019 चुनौतीपूर्ण रहने वाला है. इस साल पहले से योजनाबद्ध 32 मिशन को पूरा करना है. इसमें 14 रॉकेट लॉन्च हैं, 17 सेटेलाइट और एक टेक डेमो मिशन है.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इसराे GISAT सिरीज के जरिये जीयो-इमेजिंग क्षमता को प्राप्त करना चाहता है, जो RISAT की माइक्रोवेव रिमोट सेंसिंग क्षमता को बहाल करेगा. इसके साथ ही GSLV और इसके वैरिएंट की पेलोड क्षमता में भी सुधार किया जाएगा.

इस साल अंतरिक्ष एजेंसी को देश की डिजिटल इंडिया की उच्च बैंडविड्थ आवश्यकता को पूरा करते हुए भी देखा जाएगा और इसके साथ ही GSAT-20 का लॉन्च के साथ इन-फ्लाइट कनेक्टिविटी भी बढ़ेगी. फसलों की उपज, जल और ऊर्जा सुरक्षा आदि के क्षेत्र में भी इस साल इसरो को काम करना है.