नई दिल्ली। देश में इंटरनेट की स्पीड बढ़ाने के लिए इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) अगले 18 महीनों में तीन कम्युनिकेशन सैटेलाइट्स की सीरीज जीसैट- 19, जीसैट- 11 और जीसैट- 20 लॉन्च करेगा.

जीसैट भारत में निर्मित कम्युनिकेशन सैटेलाइट्स हैं जिनका लक्ष्य देश को ब्रॉडकास्टिंग सर्विसेज में आत्म-निर्भर बनाना है. जीसैट- 19 को जून महीने की शुरुआत में इसरो के सबसे भारी रॉकेट जीएसएलवी- एमके III पर सवार कर श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया जाएगा.

जीएसएलवी- एमके III रॉकेट की यह पहली उड़ान होगी. यह इसरो का नेक्स्ट जेनेरेशन रॉकेट है जो कि चार टन के सैटेलाइट्स को जीटीओ में भेजने में सक्षम होगा. अहमदाबाद स्थित स्पेस एप्लीकेशंस सेंटर (एसएसी) के निदेशक तपन मिश्रा ने बताया कि इसरो का अगला बड़ा लॉन्च जीसैट- 19 जून में होगा. इस लॉन्च के साथ हम कम्युनिकेशन सैटेलाइट्स का नया युग शुरू करेंगे.

तपन मिश्रा ने आगे कहा कि अब जबकि दुनिया कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी में बदलाव से गुजर रही है जहां इंटरनेट के जरिए वॉयस और वीडियो कम्युनिकेशन हो रहे हैं, ऐसे में आने वाले वक्त में जो सैटेलाइट्स लॉन्च किए जाएंगे उसकी मदद से लोग वायरलेस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर के इंटरनेट के जरिए टीवी देख पाएंगे.