मुंबई: अपनी बेटी की हत्या के आरोप में जेल में बंद एवं आईएनएक्स मीडिया समूह की पूर्व प्रमोटर इंद्राणी मुखर्जी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी को गुरुवार को ”अच्छी खबर” बताया. इंद्राणी मुखर्जी और उसके पति पीटर मुखर्जी आईएनएक्स मीडिया समूह के पूर्व प्रमोटर हैं. चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार एवं धनशोधन मामले में सीबीआई ने 21 अगस्त को हिरासत में लिया था. इंद्राणी ने सत्र अदालत में मीडियाकर्मियों से कहा, ”उनकी (चिदंबरम की) गिरफ्तारी अच्छी खबर है. वह अब चारों ओर से घिर गए हैं.”

इंद्राणी को उसकी बेटी शीना बोरा की हत्या के मामले में अदालत में पेश किया गया था. उसने कहा कि आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री के बेटे कार्ति चिदंबरम को दी गई जमानत भी रद्द कर दी जानी चाहिए. इससे पहले इंद्राणी ने धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत अपने बयान दर्ज कराए थे और दावा किया था कि वह और पीटर पी. चिदंबरम से दिल्ली के नॉर्थ ब्लॉक में उनके आवास पर मिले थे.

इंद्राणी ने चिदंबरम के खिलाफ गवाही दी थी
इंद्राणी ने अपने बयान में यह भी दावा किया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री ने उनसे कहा था कि वे उनके बेटे कार्ति की उसके कारोबार में मदद करें और आईएनएक्स मीडिया को विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) से मंजूरी के बदले विदेशों में भुगतान करें.

पीटर और इंद्राणी ने की आईएनएक्स मीडिया की स्थापना
आईएनएक्स मीडिया की स्थापना 2006 में पीटर मुखर्जी और उनकी पत्नी इंद्राणी द्वारा की गई थी. दोनों ने 13 मार्च 2007 को 304 करोड़ रुपए के विदेशी निवेश प्रस्ताव को मंजूरी प्राप्त करने के लिए एक आवेदन किया था.

304 करोड़ विदेशी निवेश प्रस्ताव को मंजूरी का प्रस्‍ताव दिया था
एफआईपीबी की अध्यक्षता आर्थिक मामलों के सचिव करते थे और इसमें अन्य स्थायी सदस्य थे, जिसमें औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी), वाणिज्य, विदेश मंत्रालय में आर्थिक संबंध और प्रवासी भारतीय मामलों के सचिव शामिल थे. कंपनी ने 4.62 करोड़ रुपए के एफडीआई का प्रस्ताव किया था. उसके इस प्रस्ताव को तत्कालीन वित्तमंत्री चिदंबरम की स्वीकृति के बाद एफआईपीबी ने मंजूरी दे दी थी.

शर्तों का उल्लंघन करते हुए निवेश जुटाया था
कंपनी ने शर्तों का उल्लंघन करते हुए 800 रुपए प्रति शेयर के प्रीमियम के साथ 305 करोड़ रुपए एफडीआई के रूप में प्राप्त कर लिए. इस निवेश को लेकर संदेह उत्पन्न होने के बाद आयकर विभाग ने एफआईपीबी को एक पत्र लिखकर मामले की जांच के लिए कहा. बोर्ड ने आयकर विभाग को बताया कि मामले की वैधता का पता लगा लिया गया है और इस बारे में आईएनएक्स मीडिया से भी स्पष्टीकरण मांगा गया है.

कार्ति चिदंबरम के साथ एक आपराधिक षड्यंत्र रचा: सीबीआई
सीबीआई ने प्राथमिकी में आरोप लगाया है मामले में दंडात्मक कार्रवाई से बचने के लिए कंपनी ने मंत्री के पुत्र एवं चेस मैनेजमेंट के प्रवर्तक कार्ति चिदंबरम के साथ एक आपराधिक षड्यंत्र रचा ताकि एफआईपीबी में लोकसेवकों पर प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए मामले को सौहार्द्रपूर्ण तरीके से सुलझाया जा सके.

जांच को लेकर भी भ्रामक सूचना दी
सीबीआई ने आरोप लगाया कि एफआईपीबी द्वारा आईएनएक्स मीडिया को कंपनी में पहले से किए गए निवेश के लिए नए सिरे से आवेदन करने की सलाह दी गई. मामले की जांच करने के आयकर विभाग के अनुरोध में भी टाल मटोल कर दी गई. सीबीआई ने आरोप लगाया है कि वित्त मंत्रालय ने न केवल नए प्रस्तावों को मंजूरी दी, बल्कि आयकर विभाग द्वारा की जा रही जांच को लेकर भी भ्रामक सूचना दी.

3.5 करोड़ रुपए के बिल भी जारी किए
आगे यह भी आरोप लगाया है कि एफआईपीबी अधिसूचना और स्पष्टीकरण के लिए प्रबंधन परामर्श शुल्क के तौर पर एडवांटेज स्ट्रेटेजिक को 10 लाख रुपए का भुगतान किया गया. इसके लिए कंपनी ने आईएनएक्स मीडिया के नाम 3.5 करोड़ रुपए के बिल भी जारी किए.

चिदंबरम और कार्ति आरोपों का कर चुके हैं खंडन
सीबीआई के अनुसार, एडवांटेज स्ट्रैटेजिक का नियंत्रण अप्रत्यक्ष रूप से कार्ति चिदंबरम ही करते हैं, लेकिन कार्ति और उनके पिता ने इसका जोरदार ढंग से इनकार किया. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने अपने ऊपर लगे आरोपों का मजबूती से खंडन कर चुके हैं. उन्हें नोटिस जारी होने के बाद वह पिछले साल एजेंसी के सामने पेश भी हुए थे.

मामले में इंद्राणी मुखर्जी सरकारी गवाह बनी
इस बीच, प्राथमिकी में एक आरोपी के तौर पर शामिल इंद्राणी मुखर्जी मामले में सरकारी गवाह बन गई है और उसने आरोप लगाया कि वह चिदंबरम से उनके कार्यालय में और बाद में उनके बेटे से दक्षिणी दिल्ली स्थित एक पांच सितारा होटल में मिली थी, जहां उसे कार्ति को एक विदेशी बैंक खाते में भुगतान करने के लिए कहा गया था.

बेटी शीना बोरा की हत्‍या की आरोपी है इंद्राणी
इंद्राणी और उसका पति पीटर बेटी शीना की हत्या करने और उसके शव को महाराष्ट्र में एक जंगल में जलाने के लिए सीबीआई जांच का सामना कर रहे थे. सीबीआई के अनुसार, इंद्राणी और पीटर शीना और राहुल के बीच अंतरंग संबंध के खिलाफ थे. राहुल पीटर का उसकी पहली पत्नी से बेटा है.

बेटी का मर्डर ऐसे करने का आरोप
केंद्रीय एजेंसी ने आरोप लगाया है कि पीटर अक्सर इस मुद्दे पर राहुल के साथ झगड़ा करता था, क्योंकि वह शीना के साथ उसके रिश्ते को पंसद नहीं करता था. शीना (24) को अप्रैल 2012 में इंद्राणी, इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना और उसके पूर्व चालक श्यामवर राय द्वारा मुंबई में एक कार में गला घोंटका मार डाला गया था. उसके शव पड़ोसी रायगढ़ जिले के एक जंगल में फेंक दिया गया था. सीबीआई ने मामले में इंद्राणी, खन्ना और राय को आरोपी बनाया है.