नई दिल्लीः 12 दिसंबर (भाषा) इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक को बृहस्पतिवार को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी. इससे एक दिन पहले यह विधेयक राज्यसभा में पारित हो गया. इसमें पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक उत्पीड़न से परेशएान होकर भागकर भारत आए गैर मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान है.

आईयूएमएल ने आरोप लगाया कि यह विधेयक संविधान के समानता के मौलिक अधिकार का उल्लंघन करता है. बता दें नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 बुधवार को राज्यसभा में पारित हो गया. यह विधेयक लोकसभा में पहले ही पारित हो चुका है. राज्यसभा में विधेयक के पक्ष में 125 जबकि विपक्ष में 105 वोट पड़े. इससे पहले विधेयक को सेलेक्ट कमेटी के पास भेजने के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया गया.

त्रिपुरा, असम आने-जाने वाली सभी यात्री ट्रेनें निलंबित : रेलवे

इस नागरिकता संशोधन बिल के पास होने के बाद से ही देश के कई राज्यों में खासा विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है. सबसे ज्यादा इसका असर पूर्वोत्तर भारत में हुआ है. कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन को देखते हुए प्रशासन ने सेना को अलर्ट पर रखा है और इसके साथ ही कई राज्यों में कर्फ्यू भी लगाया गया है.