नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाई एस राजशेखर रेड्डी के छोटे भाई और पूर्व मंत्री वाई एस विवेकानंद रेड्डी कडप्पा जिले में अपने आ‍वास में मृत पाए गए. परिवार के लोगों का आरोप है कि रेड्डी की मौत स्वाभाविक नहीं है. विवेकानंद रेड्डी के निजी सहायक एम वी कृष्ण रेड्डी ने पुलीवेंदुला पुलिस थाने में मौत की प्रकृति पर संदेह जताते हुए शिकायत दर्ज कराई है. उनका कहना है कि बाथरूम और शयनकक्ष में खून के धब्बे मिले हैं. दिवंगत नेता के परिवार में उनकी पत्नी और एक बेटी है. Also Read - नई पार्टी बनाने की खबरों के बीच आंध्र प्रदेश के दिवंगत सीएम YSR की बेटी ने पिता के वफादारों के साथ विचार-विमर्श शुरू किया

विवेकानंद रेड्डी के भतीजे और पूर्व सांसद वाई एस अविनाश रेड्डी ने इसे अस्वाभाविक मौत बताते हुए इसकी विस्तृत जांच की मांग की है. अविनाश रेड्डी ने पुलीवेंदुला में कहा, ‘उनके सिर पर जख्म के दो निशान हैं. एक सामने है और एक पीछे. मौत की वजह जानने के लिए विस्तृत जांच की जरूरत है. उनकी हत्या की साजिश हो सकती है इसलिए इसकी जांच की जरूरत है. Also Read - आंध्रप्रदेश में TDP का सूपड़ा साफ करेगी भाजपा, दर्जनभर से ज्यादा विधायक छोड़ सकते हैं पार्टी

एक स्थानीय पुलिस निरीक्षक ने बताया कि सीआरपीसी के तहत अस्वाभाविक मौत का मामला दर्ज कर लिया गया है और शव को पुलीवेंदुला सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष वाई एस जगमोहन रेड्डी और उनकी मां विजयम्मा यह खबर सुनने के बाद हैदराबाद से पुलीवेंदुला के लिए रवाना हो गए. Also Read - दक्षिण का क्षत्रप बना ये युवा, प्रचंड मोदी लहर के बावजूद भाजपा को मिला केवल 1 फीसदी वोट

वाई एस विवेकानंद रेड्डी की पहचान जमीन से जुड़े हुए नेता की थी. वह 1989 और 1994 में अपने गृहनगर पुलीवेंदुला से विधायक निर्वाचित हुए. वह कडप्पा क्षेत्र से 1999 और 2004 में सांसद थे. इसके बाद 2009 में वह विधान परिषद के सदस्य रहे. रेड्डी बृहस्पतिवार की रात को पुलीवेंदुला में अपने घर में अकेले थे.