नई दिल्ली: जैश-ए-मोहम्मद आतंकवादी संगठन के प्रमुख मसूद अजहर की पाकिस्तान में मौत का दावा सोशल मीडिया पर किया जा रहा है. भारत में कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में भी ऐसा दावा किया जा रहा है. वहीं, पाकिस्तान की मीडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार मसूद अजहर ज़िंदा है. पाक मीडिया ने मसूद अजहर की मौत की खबर का खंडन किया है. पाकिस्तान के प्रमुख मीडिया संस्थान जिओ न्यूज़ के अनुसार, मसूद अजहर अभी ज़िंदा है. जिओ ने ये खबर मसूद अजहर के परिवार व रिश्तेदारों से बातचीत के आधार पर प्रकाशित की है.

वहीं, इस वायरल खबर पर भारत की नजरें हैं. इसके बारे में भारतीय खुफिया एजेंसियां सच्चाई पता लगाने की कोशिश कर रही हैं. अधिकारियों ने कहा कि उन्हें इसके अलावा कोई जानकारी नहीं है कि अजहर का सेना के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है. उसके गुर्दे खराब हो चुके हैं.


पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में बहावलपुर के रहने वाले अजहर ने 2000 में जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन बनाया था. कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सीएनएन को दिये इंटरव्यू में कहा था कि जैश प्रमुख अजहर पाकिस्तान में है और उसकी सेहत बहुत खराब है. लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि अगर भारत ठोस सबूत पेश करे तो पाक सरकार उसके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है. कुरैशी ने कहा था, वह मेरी जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान में है. वह इतना बीमार है कि अपने घर से नहीं निकल सकता.

जैश चीफ अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर विरोध वापस ले सकता है पाक

रविवार को अटकलें तब और तेज हो गईं, जब एक वायरल रिपोर्ट में कहा गया कि मसूद भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट में आतंकी शिविर पर हमले में मारा गया है. हालांकि, किसी आधिकारिक सूत्र ने इसकी पुष्टि नहीं की. भारतीय वायुसेना द्वारा जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने पर हमले में उसे हुए नुकसान के सबूत दिखाने के बढ़ते दवाब के बीच भारत संदेह करने वालों को चुप कराने के लिए कुछ दिनों में सबूत पेश करने पर विचार कर रहा है.