नई दिल्ली: शायद यह पहला मौका होगा जब ईद के त्योहार पर मुस्लिम समुदाय आज मस्जिद की जगह घर पर ही नमाज अदा करेंगे. इससे पहले ऐसा किसी ने भी न देखा होगा न ही सोचा होगा. देश में कोरोना वायरस के खतरे के चलते 31 मई तक लॉकडाउन (Lockdown) लगा हुआ है और इस कारण देश के सभी मंदिर और मस्जिदों में जानें पर रोक लगी हुई है. Also Read - Unlock 2.0: इस दिन से फिर खुलेगी ऐतिहासिक जामा मस्जिद, शाही इमाम ने कही ये बात

लॉकडाउन और कोविड-19 के कारण ईद के मौके पर आज दिल्ली की जामा मस्जिद (Jama Masjid) बंद रहेगी. केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ईद के मौके पर घर ही नमाज अदा की. Also Read - दिल्ली: कोरोना के खतरे को देखते जामा मस्जिद 30 जून तक बंद, शाही इमाम ने कहा- घरों में पढ़ें नमाज़

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हर बार की तरह इस बार ईद की रंगत और रौनक फीकी रहेगी. लॉकडाउन के कारण इस त्योहार के दौरान हमेशा रहने वाली चहल-पहल और लोगों की भीड़ पूरी तरह से गायब है. Also Read - Unlock 1.0 में खुली जामा मस्जिद, बदला इबादत का तरीका, वजू से लेकर गले मिलने तक पर पाबंदी!

इस पवित्र पर्व के हफ्तों पहले से जहां बाजार गुलजार हो जाते थे और खरीददारी के लिए लोगों का हुजूम उमड़ता था. वह नजारा इस बार बाजार से पूरी तरह से नदारद है. सड़कों पर सन्नाटा पसरा है और इक्का दुक्का दुकानें ही खुली हुई है.

कोरोना वायरस के खतरे के चलते कई मुस्लिम धर्म गुरुओं ने भी लोगों से अपील की है कि वे मस्जिदों में न जाएं और घर ही नमाज अदा करें. दिल्ली पुलिस ने भी लोगों से घर में रहने की अपील की है. मौलाना और उलेमाओं की तरफ से भी लोगों से यही अपील की गई है. वैसे तो ईद का त्योहार लोगों से गले मिलकर उन्हें बंधाई देने का है लेकिन इस बार कोरोना के खतरे के कारण लोगों को ईद पर गले न मिलने की हिदायत दी गई है.