नई दिल्ली: जामिया मिल्लिया इस्लामिया की कुलपति नजमा अख्तर ने गुरुवार को कहा कि विश्वविद्यालय जामिया नगर में बृहस्पतिवार को गोलीबारी की घटना में ज़ख्मी हुए छात्र शादाब फारुक के इलाज का खर्च उठाएगा. अख्तर ने कहा कि जामिया मिलिया इस्लामिया घायल छात्र के इलाज का भुगतान करेगा और उसके लिए परीक्षा की तारीखों में बदलाव करेगा. कुलपति नजमा अख्तर ने शादाब फारूक के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ट्रॉमा सेंटर भी पहुंची और जख्मी छात्र का हालचाल जाना.

उन्होंने कहा कि छात्रों ने स्थिति को समझदारी से संभाला, जवाबी कार्रवाई नहीं की. कुलपति ने कहा कि पुलिस देखती रही, व्यक्ति ने पिस्तौल लहराई और हमारे छात्र को गोली मार दी. उन्होंने कहा कि घटना ने पुलिस में हमारे यकीन को हिला दिया है. इस बीच हमले का विरोध करने के लिए सैकड़ों लोग बृहस्पतिवार रात को आईटीओ स्थित दिल्ली पुलिस के मुख्यालय के बाहर जमा हो गए. प्रदर्शनकारियों में छात्र समूह भी शामिल थे, जिन्होंने सीएए के खिलाफ नारेबाज़ी की.

CAA Protest: गोलीबारी में छात्र के घायल होने के बाद जामिया में व्यापक प्रदर्शन

जामिया नगर में बृहस्पतिवार को उस समय तनाव उत्पन्न हो गया जब भारी पुलिस बल की मौजूदगी में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे समूह पर एक व्यक्ति द्वारा पिस्तौल से गोली चलाए जाने से जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में जनसंचार का छात्र फारुक घायल हो गया.