नई दिल्ली: जामिया समन्वयन समिति (जेसीसी) ने पिछले साल 15 दिसंबर को विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में छात्रों पर लाठीचार्ज कर रहे अर्द्धसैनिक बल और पुलिस के कर्मियों का सीसीटीवी फुटेज जारी किया है. इस समन्वयन समिति में जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र और पूर्व छात्र शामिल हैं. Also Read - मौलाना साद को गिरफ्तार नहीं करेगी दिल्ली पुलिस, सामने आए तो क्वारंटाइन में रखा जाएगा


विशेष पुलिस आयुक्त (खुफिया विभाग) प्रवीर रंजन ने कहा कि यह वीडियो पुलिस के संज्ञान में आया है और वे जारी जांच प्रक्रिया के तहत इसकी भी जांच करेंगे. इस 48 सेकेंड के वीडियो में अर्द्धसैनिक बल और पुलिस के कुछ कर्मी सात से आठ कर्मी ओल्ड रीडिंग हॉल में प्रवेश करते और छात्रों को लाठी से पीटते हुए दिख रहे हैं. जेसीसी ने रविवार तड़के यह वीडियो जारी किया.

विश्वविद्यालय 15 जनवरी को उस वक्त युद्धक्षेत्र में तब्दील हो गया था जब पुलिस परिसर के भीतर उन बाहरी लोगों को तलाश करने के लिए घुसी जिन्होंने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान शैक्षणिक संस्थान से कुछ दूरी पर हिंसा और आगजनी की थी. लाइब्रेरी में छात्रों पर की गई कथित कार्रवाई के लिए पुलिस को जनाक्रोश का सामना करना पड़ा था.