नई दिल्ली: तीन चार दिन में एक साथ कई संदिग्ध वीडियो बाहर आने से दिल्ली पुलिस में भी खलबली मची हुई है. चार दिन से चुप, अंतत: मंगलवार को दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एसआईटी को जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय का दौरा करना ही पड़ गया. दौरे वाली टीम के प्रमुख खुद डीसीपी एसआईटी राजेश देव थे. टीम कई घंटे तक जामिया में डेरा जमाए रही. मंगलवार देर रात दिल्ली पुलिस मुख्यालय ने इसकी जानकारी खुद ही अधिकृत बयान जारी करके दी. Also Read - Wrestler Murder Case: पहलवान सुशील कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी, हत्या में नाम है शामिल

दिल्ली पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी अधिकृत बयान के अनुसार, “जामिया मिलिया इस्लामिया की लाइब्रेरी में काफी देर तक एसआईटी टीम मौजूद रही. टीम ने उन स्थानों का भी गहन निरीक्षण किया जो वीडियो में दिखाई पड़ रहे हैं.”जामिया मिलिया परिसर में पहुंची दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एसआईटी ने स्टाफ और छात्रों से भी बातचीत की. बातचीत का मकसद था हर बिंदु की तह तक पहुंचना. इस अवसर पर विवि के चीफ प्रॉक्टर ने भी सहयोगात्मक रवैया अख्तियार किया. Also Read - Oxygen Concentrator की कालाबाजारी मामले में नवनीत कालरा के खिलाफ लुकआउट नोटिस

दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बयान के मुताबिक, “जामिया मिलिया विश्वविद्यालय परिसर में एसआईटी टीम के सदस्य करीब 3 घंटे मौजूद रहे.” Also Read - दिल्ली: ऑक्सीजन सिलिंडर के नाम पर चल रहा फायर एंस्टीग्यूशर बेचने का खेल, पुलिस ने दबोचे में 153 आरोपी