नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में राजोरी जिले के नौशेरा सेक्टर स्थिन सेना की एक पोस्ट पर आतंकी हमले में सेना का एक जवान शहीद हो गया. हालांकि भारतीय सेना ने भी इस हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया और तीन आतंकियों को मार गिराया. मंगलवार सुबह एक चौकी (एलओसी से 500 मीटर अंदर) पर आतंकियों ने फायरिंग की, जिसमें बुरी तरह से जख्मी हुए जूनियर कमिशंड ऑफिसर (जेसीओ) शहीद हो गए. फायरिंग के बाद क्षेत्र में आम लोगों की आवाजाही को रोक दिया गया. इसके साथ ही दोनों ओर से जमकर फायरिंग हुई. अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार शाम को पाकिस्तान ने नौशेरा सेक्टर के कलाल इलाके में गोलाबारी की जिसमें अग्रिम सीमा चौकी की रखवाली कर रहा जवान शहीद हो गया. समाचार ऐजेंसी एएनआई के मुताबिक अवंतीपोरा एनकाउंटर में सेना ने 3 आतंकी मार गिराए. उनके पास से हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं. उनकी पहचान के बारे में पता लगाया जा रहा है. इसके अलावा इलाके में तलाश जारी है.


बता दें कि यह घटना पाकिस्तान द्वारा पुंछ जिले के मेंढर और बालाकोट सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन करने के कुछ ही घंटों बाद हुई. खबरों के अनुसार, दो नागरिक भी घायल हुए हैं. वैसे ये पहली घटना नहीं है जिसमें जेसीओ जवान आतंकी हमले में शहीद हुआ है. 2018 में, कुपवाड़ा जिले में नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तानी सेना द्वारा एक स्नाइपर हमले में दो जेसीओ शहीद हो गए थे.

इससे पहले दिन में, जम्मू और कश्मीर के अवंतीपोरा जिले में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हुई थी. रिपोर्टों के अनुसार, लश्कर के तीन आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने घेर रखा था. सुरक्षा बलों ने इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिलने के बाद अवंतीपोरा इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया था और मुठभेड़ में तीन आतंकियों को मार गिराया. इससे पहले, 16 अक्टूबर को मुठभेड़ की एक अन्य घटना में, अनंतनाग क्षेत्र में तीन आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने मार दिया था.