श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के कुलगाम जिले में रविवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में चार आतंकवादी मारे गए. सेना के एक अधिकारी ने बताया कि चारों आतंकवादी दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम जिले के हिपुरा बाटागुंड क्षेत्र में मुठभेड़ में मारे गए. उन्होंने बताया कि आतंकवादियों की पहचान और उनके संगठन के बारे में पता लगाया जा रहा है. एक खुफिया जानकारी के आधार पर सुरक्षाबलों ने क्षेत्र में घेराबंदी करके तलाश अभियान शुरू किया था. उन्होंने बताया कि इस दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाईं और सुरक्षा बलों ने भी जावाबी कार्रवाई की. जिसके बाद अभियान मुठभेड़ में तब्दील हो गया. उन्होंने बताया कि अभियान फिलहाल जारी है. Also Read - UPDATE, अफगानिस्तान में गुरुद्वारे पर हुए आतंकवादी हमले में 27 लोगों की मौत, 8 घायल

दो दिन पहले ही दक्षिण कश्मीर के बिजबेहरा में शुक्रवार तड़के हुई मुठभेड़ में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठनों लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन के छह आतंकवादी मारे गए थे. इनमें पत्रकार शुजात बुखारी हत्याकांड में संलिप्त आतंकवादी और तीन कमांडर थे. पुलिस ने कहा कि सुरक्षाबलों ने गुरुवार की रात एक ठिकाने पर आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे जानकारी मिलने के बाद वागाहामा शक्तिपुरा के तलहटी क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया. पुलिस ने कहा कि एक घर से गोलियां चलाई जा रही थीं. अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकवादियों ने भागने का प्रयास किया और मुठभेड़ में छह आतंकवादी मारे गए. Also Read - सात महीने की हिरासत के बाद रिहा होंगे उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर सरकार ने जारी किए आदेश

पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर रेंज) स्वयं प्रकाश पाणि ने मुठभेड़ खत्म होने के बाद बताया कि मौके से मिली खुफिया जानकारी के आधार पर तेज अभियान चलाया गया. पुलिस के अनुसार मारे गए आतंकवादियों की पहचान बिजबेहरा के आजाद अहमद मलिक, बिजबेहरा के यूनिस शफी, पुशवारा अनंतनाग के बासित इश्तियाक, वाघामा बेजबेहरा के आतिफ नजर, मुचपूना पुलवामा के फिरदौस अहमद और क्वानी अवंतीपोरा के शाहिद बशीर के रूप में हुई. पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि यह हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर ए तैयबा आतंकी समूहों का संयुक्त समूह था. पुलिस रिकार्ड के अनुसार, यूनिस शफी और बासित इश्तियाक हिज्बुल के साथ थे तथा यूनिस अनंतनाग जिले का हिज्बुल कमांडर था. अन्य लश्कर के सदस्य थे.

सभी छह आतंकवादी सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले तथा नागरिकों पर अत्याचार सहित कई आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता के लिए वांछित थे.’ पुलिस ने कहा कि अनंतनाग के लश्कर जिला कमांडर आजाद अहमद मलिक उर्फ आजाद दादा इस साल अप्रैल में अपने एक साथी के साथ खुदवानी कुलगाम में मुठभेड़ स्थल से फरार हो गया था. आजाद फरार आरोपी नवीद जट्ट का करीबी सहयोगी था और वह पत्रकार शुजात बुखारी और उनके सुरक्षाकर्मियों की हत्या मामले में वांछित था. इस मामले में, एकत्रित मजबूत साक्ष्यों के आधार पर उसके और तीन अन्य के खिलाफ एक नोटिस जारी किया गया था.