भारतीय सुरक्षा बलों जम्मू कश्मीर में एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. मंगलवार को भारतीय सेना ने एक एनकाउंटर में लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी उफैद फारूक लोन (Ufaid Farooq Lone) मार गिराया. लोन कई आतंकवादी गतिविधियों में शामिल था. पांच अक्टूबर को आतंकवादियों ने दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग स्थित उपायुक्त कार्यालय के बाहर ग्रेनेड हमला किया था जिसमें 14 लोग घायल हुए. इस ग्रेनेड हमले के पीछे भी उफैद फारूक का हाथ था. यही नहीं उफैद फारूक पर कश्मीरी दुकानदारों और फल उत्पादकों को धमकाने और उनकी पिटाई करने सहित कई आरोप हैं. ये आतंकी भारत सरकार द्वारा धारा 370 और 35A को खत्म किए जाने के बाद से कश्मीरियों को धमका और उन्हें पीट रहा था.

एक अधिकारियों ने कहा कि यह ऑपरेशन सोमवार शाम को भारतीय सेना और राज्य पुलिस द्वारा अवंतीपोरा के कवानी गांव में शुरू किया गया था. उन्होंने कहा कि एनकाउंटर स्थल से आतंकवादी का शव बरामद किया गया है और उसकी पहचान अवंतीपोरा निवासी उफैद फारूक लोन उर्फ अबू मुस्लिम के रूप में हुई है.

5 अक्टूबर को उफैद ने अनंतनाग में चाक चौबंद सुरक्षा से लैस उपायुक्त कार्यालय परिसर के बाहर पहरेदारी कर रहे सुरक्षाकर्मियों पर पूर्वाह्न करीब 11 बजे हमला किया. एक अधिकारी के मुताबिक उसका ग्रेनेड निशाना चूक गया और वह सड़क पर गिरा. उसमें हुए विस्फोट से निकले छर्रों से 14 लोग घायल हो गए, जिनमें एक यातायात पुलिसकर्मी और एक स्थानीय पत्रकार शामिल है.