नई दिल्ली: कश्मीर घाटी में जमकर बर्फबारी हो रही है. अधिकांश हिस्से बर्फ की सफेद चादर से ढक गए हैं. जम्मू और कश्मीर के पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी की वजह से सड़क और हवाई यातायात पर असर पड़ा है. जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाइवे को बर्फबारी की वजह से बंद कर दिया गया है. मौसम विभाग ने आगे भी भारी बर्फबारी की संभावना जताई है. कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई. मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों के दौरान बारिश और बर्फबारी का अनुमान जताया था.

Jammu And Kashmir snowfall

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू और कश्मीर में शुक्रवार शाम से औसत बारिश और बर्फबारी की संभावना है. अधिकारी ने बताया था कि अगले 48 घंटों के दौरान खराब मौसम के कारण घाटी और बाहरी इलाकों के बीच संपर्क प्रभावित हो सकता है. श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से 3.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया, जबकि पहलगाम में शून्य से 6.8 डिग्री नीचे और गुलमर्ग में शून्य से 10 डिग्री नीचे रहा.

Jammu And Kashmir snowfall

कारगिल का तापमान शून्य से 18.6 डिग्री नीचे दर्ज किया गया, जो इस मौसम में सबसे कम तापमान है. लेह का न्यूनतम तापमान शून्य से 14.5 डिग्री नीचे दर्ज किया गया. जम्मू का तापमान 4.5 डिग्री सेल्सियस, कटरा का 5.8 डिग्री, बटोटे का 1.1 डिग्री, बनिहाल का 2.7 डिग्री और भदरवाह का शून्य से 2 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा, जो रात का सबसे कम तापमान है.

Jammu And Kashmir snowfall

वहीं जम्मू कश्मीर प्रशासन ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के निर्देश पर प्रदेश में पहली बार वायु गुणवत्ता निगरानी समिति (एक्यूएमसी) के गठन के आदेश दिए हैं. सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) की ओर से जारी एक आदेश के अनुसार यह समिति वन,पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी विभाग के प्रशासनिक सचिव की पूरी निगरानी और समन्वय में कामकाज करेगी.

Jammu And Kashmir snowfall

परिवहन आयुक्त, पर्यावरण और पारिस्थितिकी निदेशक, उद्योग और वाणिज्य निदेशक,कृषि उत्पादन निदेशक, शहरी स्थानीय निकायों के निदेशक, सदस्य सचिव तथा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड इस समिति के सदस्य होंगे. आदेश में कहा गया है कि यह समिति जम्मू और श्रीनगर में वायु गुणवत्ता मानक का अनुपालन नहीं करने वाले शहरों में वायु प्रदूषण नियंत्रण के लिए कार्ययोजना तैयार करेगी.