Jammu and Kashmir जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में रविवार को आतंकवादियों ने तीन गैर स्थानीय लोगों को गोली मारी जिससे दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक गंभीर रूप से घायल है. पुलिस ने यह जानकारी दी. पुलिस अधिकारी ने बताया कि मूल रूप से बिहार के रहने वाले तीनों लोगों पर आतंकियों ने कुलगाम के वानपोह इलाके में अंधाधुंध फायरिंग की. इस आतंकी घटना में 2 गैर स्थानीय लोगों की मौत हो गई और 1 घायल हो गया.Also Read - 75 साल से आर्टिकल 370 के रहते जम्मू कश्मीर में शांति क्यों नहीं थी? : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पूछा

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर दी है. वानपोह, कुलगाम (जम्मू-कश्मीर) में आतंकवादियों द्वारा जिन तीन गैर-कश्मीरी मजदूरों पर गोलियां चलाई गईं, उनकी पहचान राजा रेशी देव (मृत), जोगिंदर रेशी देव (मृत) और चुनचुन रेशी देव (घायल) के रूप में हुई. सभी बिहार के रहने वाले हैं. Also Read - Bihar: विधानसभा परिसर में DM, SSP की कार को रास्‍ता देने के लिए मंत्री की कार रोकी पुलिसकर्मी ने, अब हाई लेविल की जांच के आदेश

अधिकारियों के मुताबिक आतंकवादी मजदूरों के किराए के मकान में घुस गए और उन पर अंधाधुंध गोलीबारी की. गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में 24 घंटे से भी कम समय में गैर-स्थानीय मजदूरों पर यह तीसरा हमला है. बिहार के एक रेहड़ी-पटरी वाले और उत्तर प्रदेश के एक बढ़ई की शनिवार शाम को आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. नागरिकों की हत्याओं के बीच, जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने आतंकवादियों और उनके समर्थकों को निशाना बनाकर उनके खून की एक-एक बूंद का बदला लेने की प्रतिबद्धता जाहिर की. Also Read - जम्मू कश्मीर पर टिप्पणियों के लिए भारत ने ‘OHCHR’ पर साधा निशाना, कहा- सीमा पार आतंकवाद के कारण...

सिन्हा ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की शांति और सामाजिक-आर्थिक प्रगति और लोगों के व्यक्तिगत विकास को बाधित करने के प्रयास किए जा रहे हैं. उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश के तेजी से विकास के लिए प्रतिबद्धता दोहराई. सिन्हा ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘आवाम की आवाज’ में कहा, ‘‘मैं शहीद नागरिकों को अपनी श्रद्धांजलि देता हूं और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं. हम आतंकवादियों, उनके हमदर्दों को निशाना बनायेंगे और निर्दोष नागरिकों के खून की हर बूंद का बदला लेंगे.’’

इससे पहले शनिवार को आतंकियों ने बांका जिले के रहने वाले अरविंद कुमार साह (30) को आतंकवादियों ने शनिवार शाम को श्रीनगर में ईदगाह के पास पार्क के बाहर गोली मारी. उन्होंने बताया कि साह की मौके पर ही मौत हो गई. साह श्रीनगर में गोलगप्पा बेचते थे और उनका सपना बिहार में मौजूद परिवार को गरीबी से निकालना था जो उनकी मौत के साथ टूट गया है.