श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर प्रशासन ने हुर्रियत को शनिवार को एक दिवसीय बैठक सत्र आयोजित करने की अनुमति नहीं दी और अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक को नजरबंद कर दिया. जिसे लेकर अलगाववादी नेता ने जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मालिक को निशाने पर लेते हुए तंज कसते हुए कहा ईमानदार लोकतंत्र के लिए कितना कुछ कर रहे हैं गवर्नर साहब! Also Read - हुर्रियत कॉन्फ्रेंस को उम्मीद, पीएम मोदी अब कश्मीर मुद्दे पर निभा सकते हैं निर्णायक भूमिका

Also Read - एनआईए के सामने पेश होने के लिए कश्मीर अलगाववादी नेता मीरवाइज दिल्ली पहुंचे

मुस्लिम सहेली की जान बचाने के लिए किडनी देने पर अड़ी ये सिख लड़की, बनी इंसानियत की मिसाल Also Read - पुलवामा हमला: अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस लेने के बाद हुरियत का आया ये बयान

उमर फारूक ने ट्वीट किया, “एक दिवसीय हुर्रियत कार्यकर्ता/प्रतिनिधि सत्र पर रोक! एक बार फिर नजरबंद कर दिया. हुर्रियत का राजबाग कार्यालय सील. कोई भी राजनीतिक गतिविधि करने की अनुमति नहीं.”

राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, “ईमानदार लोकतंत्र के लिए कितना कुछ कर रहे हैं गवर्नर साहब!” अलगाववादी नेताओं के जमावड़े को रोकने के लिए हुर्रियत के राजबाग कार्यालय को बंद कर दिया गया. दूसरी तरफ जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव के छठें चरण के मतदान भारी सुरक्षा के बीच संपन्न हुए. राज्य में पड़ रही कड़ाके की ठण्ड के बावजूद लोगों के उत्साह में कोई कमी नजर नहीं आई सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक 3,174 मतदान केंद्रों पर चले इस मतदान में लोगों ने बढ-चढ कर हिस्सा लिया. चुनाव के इस चरण में 7,156 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी हुई है.

बिहार: केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा- आरएलएसपी NDA के साथ रहेगी या नहीं, 6 दिसंबर को करेंगे निर्णय