जम्मू/श्रीनगर. रुक-रुक कर हो रही बारिश के कारण खराब मौसम को देखते हुए पवित्र अमरनाथ यात्रा रोक दी गई है. अधिकारियों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर में स्थित पवित्र गुफा की शनिवार को केवल 3,124 श्रद्धालुओं ने यात्रा की. जम्मू एवं कश्मीर में खराब मौसम के कारण प्रशासन ने मौसम की स्थिति सुधार न देखकर अमरनाथ यात्रा स्थगित कर दी है. अधिकारियों ने कहा कि खराब मौसम के कारण किसी भी तीर्थयात्री को घाटी की ओर जाने नहीं दिया जाएगा. करीब 300 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर कल से रुक-रुककर बारिश हो रही है. बालटाल और पहलगाम मार्गों पर भी मध्यम बारिश हो रही है. अधिकारियों ने कहा कि इस साल 1 जुलाई से यात्रा शुरू होने के बाद से 3,17,726 तीर्थयात्री बाबा बर्फानी के दर्शन कर चुके हैं.

मुंबई बारिशः महालक्ष्मी एक्सप्रेस के एक हजार से अधिक यात्री बचाए गए, 11 उड़ानें रद्द, नौ डाईवर्ट

इससे पहले अधिकारियों ने बताया कि हालांकि बारिश के बावजूद भगवती नगर आधार शिविर से शनिवार को 165 वाहनों पर 25वां जत्था कड़ी सुरक्षा के साथ बर्फानी बाबा के दर्शन के लिए रवाना हुआ था. इस जत्थे में 3,926 श्रद्धालु शामिल थे जिनमें 17 बच्चे, 785 महिलाएं, 240 साधु शामिल हैं. उन्होंने बताया कि तीर्थयात्री शाम को दो आधार शिविरों पहलगाम और बालटाल में सुरक्षित ढंग से पहुंच गए हैं. एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया, ‘‘श्री अमरनाथ यात्रा के 27वें दिन शनिवार को 3,142 यात्रियों ने पवित्र गुफा के दर्शन किए. शनिवार तक 3,17,726 यात्री पवित्र बाबा बर्फानी के दर्शन कर चुके हैं.

Amarnath Yatra 2019: रोकी गई अमरनाथ यात्रा, जानें क्‍या है वजह…

यात्रा के दौरान पिछले दो दिनों में तीन श्रद्धालुओं की मौत हुई है और इस तरह मृतकों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है. मृतकों में 29 श्रद्धालु, दो सेवादार और यात्रा मार्ग पर तैनात दो सुरक्षा कर्मी शामिल हैं. शुक्रवार तक 3,14,584 श्रद्धालु बर्फानी बाबा के दर्शन कर चुके थे. पिछले साल कुल 2.85 श्रद्धालुओं ने ही गुफा के दर्शन किए थे. इस साल एक जुलाई को शुरू हुई 45 दिवसीय अमरनाथ यात्रा का समापन 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के साथ होगा. श्रद्धालुओं के अनुसार, कश्मीर में समुद्र तल से 3,888 मीटर ऊपर स्थित अमरनाथ गुफा में बर्फ की विशाल संरचना बनती है जो भगवान शिव की पौराणिक शक्तियों की प्रतीक है.

(इनपुट – एजेंसियां)