श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने सोमवार को बताया कि घाटी के 90 फीसदी हिस्से में दिन के समय की पाबंदियां हटा दी गई है. कंसल ने यहां संवाददाताओं से कहा कि कश्मीर घाटी में 111 पुलिस थाना क्षेत्रों में दिन के समय की पाबंदियां 92 थाना क्षेत्रों से पूरी तरह से हटा दी गई है, जो पिछले हफ्ते के 81 थाना क्षेत्रों से अधिक है. उन्होंने कहा, ‘इस तरह घाटी के 90 फीसदी हिस्से में दिन के समय की पाबंदियां पूरी तरह से हटा दी गई हैं.’

जम्मू-कश्मीर मामलाः अनुच्छेद 370 पर कई याचिकाओं पर आज सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

प्रधान सचिव ने कहा, ‘जम्मू और लद्दाख सभी तरह की पाबंदियों से पहले से ही पूरी तरह से मुक्त हैं. जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के 93 फीसदी हिस्से आज किसी निषेधाज्ञा से पूरी तरह से मुक्त हैं.’ उन्होंने कहा कि घाटी में 26,000 से अधिक लैंडलाइन फोन काम कर रहे हैं. कंसल ने कहा, ‘हमने 29 और टेलीफोन एक्सचेंज खोलने का फैसला किया है. इस तरह कुल 95 एक्सचेंज में से अब 76 संचालित हो रहे हैं.’

जम्मू-कश्मीर में 85 विकास योजनाओं की हुई शुरुआत, राज्यपाल ने कही ये बात

बीते दिनों जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा भी था कि इंटरनेट और फोन सेवाएं इसलिए बंद की गई हैं क्योंकि लोगों को एकत्र करने तथा युवाओं को बरगलाने में ये आतंकवादियों और पाकिस्तान के लिए ज्यादा उपयोगी है. उन्होंने संकेत दिया कि सेवाएं कुछ और समय तक स्थगित रहेंगी. मलिक ने कहा था कि इंटरनेट का माध्यम हमारे लिए कम उपयोगी है, लेकिन यह आतंकवादियों, पाकिस्तानियों के लिए अधिक उपयोगी है. इसका इस्तेमाल भीड़ जुटाने और बरगलाने के लिए भी किया जाता है. उन्होंने कहा था कि यह हमारे खिलाफ एक तरह का हथियार है, इसलिए हमने इसे रोका है और हम धीरे-धीरे इसे बहाल कर देंगे.