नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल द्वारा विधानसभा भंग किए जाने के बाद चुनाव आयोग का कहना है कि राज्य में नए चुनाव छह माह के भीतर करवाए जाएंगे. हालांकि आयोग ने अगले साल निर्धारित लोकसभा के चुनाव के साथ जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव कराए जाने की संभावना से इंकार नहीं किया है. मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ पी रावत ने कहा कि जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव मई से पहले करवाए जाने चाहिए…यह संसदीय चुनाव से भी पहले हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के अनुसार सदन को भंग किए जाने के छह माह की सीमा के भीतर चुनाव करवा लिए जाने चाहिए. इसलिए यह अवधि मई 2019 आती है. Also Read - सुशांत सिंह राजपूत मामले पर भाजपा की मांग, संजय राउत और आदित्य ठाकरे का नारको टेस्ट करे CBI

Also Read - आज खत्म हो रहा सोनिया गांधी का कार्यकाल, अब कौन बनेगा कांग्रेस अध्यक्ष? पार्टी ने बताया आगे का प्लान

जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग: राज्‍यपाल के फैसले पर ‘संविधान के अनुरूप’ और ‘सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अनदेखी’ के बीच बंटे विशेषज्ञ Also Read - जम्मू-कश्मीर में नेताओं पर बढ़े हमले पाकिस्तान की हताशा: भाजपा

साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि आयोग सभी पहलुओं पर विचार कर चुनाव तिथियों की घोषणा करेगा. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय राष्ट्रपति द्वारा मांगी गई राय पर आया था. उन्होंने कहा कि चुनाव पहला मौका मिलते ही होना चाहिए जिसका अर्थ है कि छह माह से पहले भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि तेलंगाना पर भी यही सिद्धान्त लागू होता है जहां विधानसभा को समय से पहले ही भंग कर दिया गया.

राम माधव ने कहा, पाकिस्तान के कहने पर हुआ PDP-NC गठबंधन, उमर अब्दुल्ला बोले- सबूत दें या माफी मांगें

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार देर शाम राज्य विधानसभा को भंग कर दिया था. इससे कुछ ही घंटे पहले पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की महबूबा मुफ्ती सईद ने नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस के सहयोग से सरकार बनाने का दावा राज्यपाल के समक्ष पेश किया था. उन्होंने 87 सदस्यीय विधानसभा में 56 विधायकों के समर्थन का दावा किया था. उसके कुछ ही समय बात पीपुल्स कांफ्रेंस नेता सज्जाद लोन ने भी सरकार बनाने का दावा पेश किया. लोन के पास दो विधायक हैं और उन्होंने भाजपा के 25 और 18 से अधिक अन्य विधायकों का समर्थन होने का दावा किया था.

शत्रुघ्न सिन्हा का आरोप- मिलीभगत से भंग की गई जम्मू-कश्मीर विधानसभा, BJP को 2019 में होगी मुश्किल

दूसरी ओर जम्मू कश्मीर में नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने का दावा करने वाली पीडीपी का कहना है कि अभी इस बारे में फैसला नहीं गया है कि विधानसभा भंग करने संबंधी राज्यपाल के फैसले को अदालत में चुनौती दी जाएगी या नहीं. पीडीपी प्रवक्ता रफी अहमद मीर ने एक ट्वीट में कहा,‘केवल सूचना के लिए, जेकेपीडीपी ने अदालत का रूख किए जाने के मुद्दे पर औपचारिक रूप से कोई सहमति नहीं बनाई है. इस संबंध में कोई बैठक नहीं हुई है. मीर उन अटकलों पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे कि पार्टी राज्य विधानसभा भंग किए जाने संबंधी राज्यपाल के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे सकती है.